सच्चा डेरा सौदा के प्रमुख राम रहीम पर सीबीआई ने साध्वी से रेप के मामले में दोषी करार देते हुए सोमवार को सजा पर फैसला लेने के निर्णय किया है. बाबा को दोषी करार दिए जाने के बाद ही उन्हें हिरासत में लेकर जेल भेज दिया गया है. उधर उनके बाबा को कोर्ट ने सजा सुनाई इधर बाबा के समर्थकों का उत्पात मचाना शुरू हो गया. धीरे धीरे समर्थक गुंडे बन गये और उग्र रूप में आ गये. आगजनी, दंगा मारपीट और गुंडागर्दी करना शुरू कर दिया. अब पुलिस के सामने चुनौती थी कि राम रहीम को किस तरह जेल तक पहुँचाया जाए? इसी बीच खबर आई पुलिस उन्हें हेलिकॉप्टर से जेल तक ले जायेगी. लेकिन अब इसी हेलिकॉप्टर को लेकर सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है.आइए जानते है क्या है इसके पीछे की सच्चाई?

Source

मोदी के हेलिकॉप्टर में राम रहीम!

दरअसल जिस हेलिकॉप्टर में बाबा को जेल ले जाया गया. सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि इसी हेलिकॉप्टर से भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी सफ़र करते है. बाबा को स्पेशल ट्रीटमेंट देने ले लिए मोदी के द्वारा सफ़र में उपयोग किया जाने वाला हेलिकॉप्टर दिया गया है. सन्देश में यह भी दावा किया जा रहा है कि मोदी और राम रहीम के बीच सांठ- गांठ हो चुकी है. लेकिन जब हम इस वायरल हो रहे सन्देश के बारे में रिसर्च किया तो कुछ चौकाने वाले सच सामने आए.

Source

यह भी पढ़े:कोर्ट के फैसले के बाद हंगामा कर रहे राम रहीम के ‘गुंडों’ समेत बाबा पर भी हो रही है बड़ी कार्यवाही!

क्या है वायरल हो रहे इस सन्देश की सच्चाई

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राम रहीम को जेल ले जाने के लिए हेलिकॉप्टर की व्यवस्था हरियाणा सरकार की तरफ से की गयी थी.सच जानने के लिए जब हरियाणा के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राम निवास से बात की गयी तो सब कुछ साफ़ हो गया. उन्होंने कहा-‘जिस AW-139 हेलीकॉप्टर से रोहतक ले जाया गया था, वो सरकार ने किराए पर मंगाया था .किसी भी आरोपी को दोषी करार दिए जाने के बाद उसको लेकर जरूरी व्यवस्था सरकार को करनी पड़ती है। हालात को देखते हुए हेलीकॉप्टर से रोहतक ले जाने का फैसला हुआ था।

Source

सच आ गया सामने 

इस बात से तो यह साफ़ हो चूका था कि मोदी ने इस हेलिकॉप्टर को नही भेजा था तो अब यह भी जानना जरुरी था कि आखिर मोदी और राम रहीम एक जैसे हेलिकॉप्टर में जाने की सच्चाई क्या है? जब हमने इसकी सच्चाई निकाली तो पता चला भरता में इस 2011 में 20 ऐसे हेलिकॉप्टर मौजूद है और वो भी अलग अलग लोगो के. इसमें अडानी भी शामिल है. लेकिन जिस हेलिकॉप्टर में बाबा को ले जाया गया वो हेलिकॉप्टर न तो अडानी का था और न ही उसे मोदी ने भेजा था.

Source

वायरल किया जा रहा सन्देश गलत पाया गया है. यह सरकार को बदनाम करने की साजिश या मजाक के अलावा और कुछ भी नही है. इस तरह के कई सारे झूठे सन्देश लोगों द्वारा खूब वायरल किये जाते है. जब तक किसी सन्देश के बारे पूरी सच्ची जानकारी न हो तो उसे शेयर और उसपर विश्वास करने से आपको बचना चाहिए.