राम रहीम को 15 साल पुराने रेप मामले में सीबीआई कोर्ट से 10-10 साल की सजा हो चुकी है. जिसके बाद उसके काले कारनामे अब धीरे धीरे जनता के सामने आ रहे हैं. लोग उसे पिता जी कहते हैं लेकिन जिस तरीके से खुलासे हो रहे हैं उससे पता चल रहा है कि वो अपनी ही बेटी के साथ सम्बन्ध बनाता था. इतना ही नही उन दोनों के बीच रिश्ते कुछ ऐसे थे कि जब कोर्ट ने उसे सजा सुनाई तो उसने कोर्ट में अपील की कि उसकी बेटी हनीप्रीत को भी उसके साथ जेल में रहने दिया जाय. फ़िलहाल आज हम आपको बताते हैं कि जिस दिन राम रहीम अपनी पेशी के लिए सीबीआई कोर्ट जा रहा था यानी 25 अगस्त को, उस दिन उसने ट्विटर पर कुछ ऐसा ट्वीट किया था जिससे साफ पता चल रहा है कि वो अपने समर्थकों के साथ भावनात्मक खेल खेल रहा था और उसी का नतीजा रहा कि पंचकुला में मौत का तांडव मचा.

यहां पढ़ें: राम रहीम के फैसले पर पाकिस्तान ने क्या कहा

बता दें कि राम रहीम को कई बार सीबीआई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान हाजिर रहने के लिए कहा था लेकिन राम रहीम अपने राजनीतिक रसूख का इस्तेमाल करते हुए पेशी से बचता रहा और वीडियो कांफ्रेंसिंग से कार्रवाई पूरी करता रहा लेकिन जिस दिन उसपर कोर्ट फैसला सुनाने जा रही थी, उस दिन कोर्ट ने उसे सख्त हिदायत दी कि उसे पेश होना ही पड़ेगा.

इस आदेश के बाद जब उसे लगा कि अब उसका बचना मुश्किल है, तो उसने अपने समर्थकों के साथ नौटंकी और भावनात्मक कार्ड चला, जिससे उसके समर्थन में लोग जुट सकें. बस फिर क्या था इस काम के लिए उसने ट्विटर को चुना और एक ट्वीट करते हुए लिखा कि “‪हमने सदा क़ानून का सम्मान किया है।हालाँकि हमारी back में दर्द है, फिर भी क़ानून की पालना करते हुए हम कोर्ट ज़रूर जाएँगे।हमें भगवान पर दृढ़ यक़ीन है।सभी शान्ति बनाए रखे .”

Source

आपको बता दें की राम रहीम ने ये ट्वीट 24 अगस्त को किया था और इसमें ये दिखाने की कोशिश की थी कि उसे शारीरिक तकलीफ है लेकिन इसके बावजूद भी वो कानून का सम्मान करने के लिए कोर्ट जरूर जायेगा. जिसके बाद से माना जा रहा है कि समर्थकों का जमावड़ा पंचकूला की तरफ बढ़ने लगा और राम रहीम के दोषी करार होते ही समर्थकों ने हिंसा करनी शुरू कर दी.