केंद्रीय कैबिनेट में फेरबदल होना तय हो गया है. मंत्रिमंडल में 3 सितंबर को होना तय हुआ है. आपको बता दें कि उससे पहले गुरूवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने केंद्रीय मंत्रियों को बताना शुरू कर दिया कि आपको सरकार के मंत्रिमंडल से हटाया जा रहा है. जब और मंत्रियों को इसके बारे में पता चला तो उन मंत्रियों को भी नींद उड़ गयी.

Source

शाह ने फ़ोन कर मंत्रियों की उड़ायी नींद 

बाकी के मंत्रियों को यह डर सता रहा था कि कहीं उनका भी तो नंबर नहीं आ गया है कहीं उन्हें भी नहीं बुला लिया जाए. बता दें कि मंत्रियों के साथ-साथ अमित शाह की भी नींद पूरी नहीं हो पायी है. कैबिनेट के फेरबदल में अमित शाह पर पूरी जिम्मेदारी है. किन-किन नए चेहरों को मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गुरूवार शाम को हुई बैठक ने शाह को वृन्दावन पहुंचने में देरी करा दी. शाह ने मंत्रियों को फोन कर करके उनके बारे में जानकारी दी.

Source

उत्तर-प्रदेश के मथुरा में स्थित केशवधाम में शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के मार्गदर्शक संगठन आरएसएस की तीन दिवसीय बैठक शुरू हुई है. बैठक में शामिल होने के लिए शाह आधी रात वृन्दावन पहुंचे. इस बैठक में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शिरकत करने पहुंचेंगे. संघी सूत्रों के अनुसार आरएसएस मोहन भागवत के आलावा संघ परिवार के 35 आनुषंगी संगठनों के पदाधिकारी वृंदावन स्थित केशवधाम में पहुंचे चुके हैं.

Source

जानकारी के लिए बता दें कि इस बैठक में आने वाले 2019 लोकसभा चुनावों को लेकर चर्चा की जाएंगी. इसी के साथ यह चर्चा भी होगी कि संगठन ने पूरे वर्ष क्या काम किया. पिछले वर्ष जो लक्ष्य दिया गया था उसमें संगठन के लोगों ने कितना किया और उन्हें किन-किन परेशानियों का सामना पड़ा.

Source

सूत्रों के मुताबिक “केरल में संघ कार्यकर्ताओं पर हो रहे लगातार हमले और उनकी हत्या का मामला जरुर बैठक में उठ सकता है. इसके आलावा स्वदेशी जागरण मंच चीन से जुड़े मुद्दों को उठा सकता है. इसी संगठन ने चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का मामला उठाया था. बैठक में एबीवीपी, किसान संघ, भारतीय मजदूर संघ, विहिप, सेवा भारती, वनवासी सेवा आश्रम जैसे संगठन हिस्सा लेंगे.