सोशल मीडिया पर बीते कई दिनों से एक खेल जमकर छाया हुआ है. खेल खतरनाक है या यूँ कहिये जानलेवा है. इस जानलेवा खेल का नाम है ब्लू व्हेल. गेम कितना घातक है इस बात का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा लीजिये कि इस खेल को खेलने वाला कोई भी इन्सान फिर वो बच्चा हो या बड़ा जीवित नहीं बच पाया है. अब आप सोचेंगें भला ऐसा भी कौन सा खेल की इससे कोई जीवित ही नहीं बच पाया तो हम आपको बता दें कि ये इस खेल का नियम है. इस खेल को जीतने के लिए आपको अपनी जान देनी पड़ती है.

source

जी हाँ सुनने में खौफ़नाक है लेकिन ये सच है. ब्लू व्हेल गेम का मकसद ही खेलने वालों को दुःख, दर्द, खून-ख़राबा और मौत देना है. हालाँकि ये खेल विदेश से शुरू हुआ लेकिन अब इसने धीरे-धीरे भारत में भी अपनी जडें मज़बूत कर ली है. अबतक भारत के अलग-अलग हिस्सों से कई मौत की खबर सुनने में आई है. ज़ाहिर सी बात है बच्चों के अभिभावकों के साथ-साथ सरकार भी अब इस खेल को लेकर सतर्क हो गयी है.

source

ऐसे में सरकार ने लिया एक बड़ा फैसला  

गुजरात सरकार ने ब्लू व्हेल गेम ऑफ डेथ पर बैन लगा दिया है, लेकिन फिर भी मिली जानकारी के अनुसार इसके खेलने वालों की तादाद लगातार ही बढ़ती जा रही है. लिहाजा गुजरात सरकार ने ब्लू व्हेल गेम को लेकर एक हेल्पलाइन शुरू की है. इस हेल्पलाइन नंबर पर कोई भी व्यक्ति ब्लू व्हेल गेम से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी दे सकता है. इसमें ब्लू व्हेल का लिंक कहां से मिल रहा है और इसे कौन खेल रहा है समेत अन्य जानकारियां शामिल हैं.

source

एक लाख रुपये का मिलेगा इनाम

इस खेल के घातक परिणाम के मद्देनजर इसे जल्द से जल्द बंद करने की आस में ब्लू व्हेल गेम पर पूरी तरह से रोक लगाने के लिए गुजरात सरकार ने यह भी घोषणा की है कि इससे जुड़ी जानकारी हेल्पलाइन नंबर पर देने वाले शख्स को एक लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा. गुजरात के गृहराज्य मंत्री प्रदीप सिंह जाड़ेजा का कहना है कि इस गेम को लेकर हर जिले के एसएसपी, कलेक्टर और पुलिस को गाइडलाइन जारी की गई है. जानकारी के लिए बता दें कि व्हेल गेम की जानकारी हेल्पलाइन नंबर पर देने वाले व्यक्ति का नाम भी गोपनीय रखा जाएगा.