आये दिन ट्रेन में सफ़र करते समय कोई न कोई घटना सामने आ ही जाती है. कभी कोई खुद ट्रेन के सामने आ जाता है , कभी कोई किसी को धक्का दे देता है तो कभी कहीं न कहीं ट्रेन हादसा हो जाता है. लेकिन इस बार जो हादसा हुआ है वो कहीं न कहीं मानवता को शर्मसार कर रहा है. जी हाँ इस बार एक बुज़ुर्ग व्यक्ति के साथ वो हुआ है जिसकी किसी को उम्मीद भी नहीं रही होगी. यह घटना कहीं और कि नहीं बल्कि बिहार के वैशाली जिले की है.

source

बिहार के वैशाली जिले के हाजीपुर रेलवे स्टेशन पर एक बुज़ुर्ग ने चलती ट्रेन में चड़ने की कोशिश की थी लेकिन वो ऐसा करने में नाकाम रहा. यह बुज़ुर्ग चलती ट्रेन में चढ़ नहीं पाया और ट्रेन से गिरकर जख्मी हो गया. आनन् फानन में उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल भेजा गया लेकिन अस्पताल पहुचने से पहले ही उसकी रास्ते में मौत हो गयी. मौत के बाद भी उस शख्स के साथ कुछ ऐसा हुआ जिसकी किसी ने कामना भी नहीं की होगी.

जानकारी के मुताबिक कहा जा रहा है कि चलती ट्रेन में चड़ते वक्त जब जब बुजुर्ग गिर गए थे तभी वहां मौजूद लोगों ने स्टेशन सुपरिटेंडेंट और राजकीय रेल पुलिस को इस हादसे की खबर दी थी. लेकिन पुलिस को घटना स्थल पर पहुंचने में देरी हो रही थी और उधर बुज़ुर्ग की हालत खराब हो रही थी. खराब हालत को देखते हुए स्टेशन सुपरिटेंडेंट ने बुज़ुर्ग को यात्रियों के सहयोग से रेलवे ट्रैक पर से उठा कर एक यात्री के साथ उन्हें रिक्शा पर बैठाकर इलाज के लिए जिला अस्पताल भेज दिया. लेकिन रास्ते में बुज़ुर्ग की मौत हो गयी.

source

बुज़ुर्ग को मरा देख यात्री और रिक्शा चालक दोनों ही घबरा गए. दोनों को जब समझ नहीं आया कि अब वे क्या करें तो उन्होंने रास्ते में ही मौका पाते ही शव को उतार दिया और वहां से भाग निकले. शव को सड़क पर पड़ा देख जनता ने पुलिस को सूचना दी. मौके पर शव के पास पहुचकर पुलिस ने आसपास के कई सीसीटीवी कैमरे का फुटेज खंगालने की कोशिश की लेकिन कुछ भी पता नहीं चल सका.

आखिर में बुज़ुर्ग आदमी को खोजते खोजते रेल पुलिस जब जिला अस्पताल पहुंचे तब जाकर मामले का खुलासा हुआ कि आखिर वो कौन हैं.