इंडियन आर्मी के बारे में सुनते ही हर किसी का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है, हाँ वो बात अलग है इस समय राजनीती के चलते कुछ लोग भारतीय आर्मी पर भी सवाल उठाने लगे हैं. इस बीच भारतीय सेना ने एक बार फिर कुछ ऐसा किया है जिसे जानकार हर सच्चे भारतीय को अपनी सेना पर गर्व होगा. ज्ञात हो कुत्तों को हमेशा से ही भारतीय सेना का हिस्सा माना गया है और कई ऐसे किस्से भी हैं जब किसी आर्मी डॉग ने बड़ी ही बहादुरी से जंग जिताई हो.

 

source

इस सबमें सबसे दुखद बात यह होती है कि आर्मी के कुत्तों को रिटायर होने के बाद गोली मार दी जाती है या फिर उन्हें इक्षाम्रत्यु दी जाती है लेकिन अब सरकार ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसके बाद कुत्तों को मारने की जरूरत नहीं है. दरअसल सरकार ने कुत्तों को लिए एक ओल्ड ऐज होम तैयार किया है जिसमें बीमार या रिटायर हो चुके कुत्तों को रखा जाएगा.

source

एक आर्मी अफसर ने बताया कि अब ऐसा नहीं होगा, सभी सर्विस डॉग्स को रिटायर होने के बाद भी पहले की ही तरह प्यार मिलता रहेगा. उन्होंने बताया कि हम इन कुत्तों की नीलामी के बारे में भी सोच रहे हैं, जो लोग इनसे जुड़ाव महसूस करते हैं और इनका (कुत्तों का) खर्च उठाने में जिन्हें परेशानी नहीं होगी वो इन्हें अडॉप्ट कर सकते हैं.   ज्ञात ही सभी कुत्तों को नीलाम नहीं किया जा सकता क्योंकि आर्मी से जुड़े कुछ कुत्ते काफी खतरनाक होते हैं और उन्हें घर में नहीं रखा जा सकता है.

source

जानकारी के लिए बता दें आर्मी के कुत्ते 7-8 साल की उम्र में रिटायर हो जाते हैं जो उनकी उम्र का आधा है ऐसे में उनकी बाकी कि जिंदिगी को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाये गये हैं.एक कुत्ते पर हर महीने 15000 तक खर्च किये जाते हैं और इसी पैसे से उनकी पूरी देखभाल होती है.