गुरुग्राम के रायन इंटरनेशल स्कूल में 8 सितंबर को प्रद्युम्न नाम के 7 साल के बच्चे की बेरहमी से हत्या कर दी गयी थी. पुलिस ने इस हत्या के आरोपी कंडक्टर, बस ड्राईवर और स्कूल के ही स्टाफ को गिरफ्तार किया है. जानकरी के अनुसार आरोपी कंडक्टर ने 7 साल के बच्चे के साथ यौन शोषण की कोशिश की और नाकाम होने पर उसने मासूम बच्चे की हत्या कर दी. स्कूल के अंदर चाकू लेकर जाने पर कई सवाल खड़े हो गए हैं.

Source

स्कूल में हुई हत्या के बाद पूरे देश में यह सवाल बन गया है कि अब बच्चे कहां सुरक्षित हैं. जिस स्कूल के भरोसे बच्चे को छोड़ दिया जाता वहां भी अब इस तरह के काम किये जा रहे हैं. स्कूल में 7 साल के मासूम की इतनी बेरहमी से गला रेतकर हत्या करने के मामले ने पुलिस के होश उड़ा दिए हैं. इस मासूम की हत्या ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है.

Source

कुछ ऐसे थे मासूम प्रद्युम्न के आखिरी 10 मिनट

प्रद्युम्न के पिता ने सुबह 7.55 बजे उसे स्कूल छोड़ा. प्रद्युम्न ने स्कूल रिसेप्शन से प्रवेश करने के बजाय बस स्टॉप वाले दरवाजे से एंट्री की. 8 बजे प्रद्युम्न टॉयलेट गया, 2-3 मिनट के अंदर ही उसकी हत्या कर दी गयी. 5 मिनट तक वह वहीं पड़ा रहा. 8.08 पर उसे अस्पताल ले जाया गया. 8.10 पर प्रद्युम्न के परिवार वालों को इस मामले की जानकारी दी गयी.

Source

हैरान करने वाली बात यह है आरोपी कंडक्टर ही उसे अस्पताल तक लेके आया. पकड़े गए आरोपी कंडक्टर से पुलिस ने पूछताछ की और उसने 2 घंटे के अंदर ही अपना गुनाह कबूल लिया. आरोपी कंडक्टर अशोक ने अपना गुनाह कबूल करते हुए कहा कि बच्चों के टॉयलेट में मैं गलत काम कर रहा था. उसी समय वह बच्चा वहां आ गया और उसने मुझे यह सब करते हुए देख लिया. यह सब देखकर वह शोर मचाने लगा तो मैंने उसे दो बार चाकू से मारा और फिर उसका गला रेत दिया. इसके आगे आरोपी कंडक्टर ने कहा कि- उस समय मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गयी थी. मैं गलत काम करना चाहता था. आपको बता दें कि इस हत्या में और भी लोगों के शामिल होने की आशंका जताई जा रही है. मामले की अभी जाँच चल रही है.