आतंकी संगठन के आईएस लोगो का अपहरण कर दुनिया को खौफ में लाना चाहता हैं. कुछ लोगों को भारतीय सरकार बचाने में कामयाब रही है लेकिन कईयों का तो अभी तक कोई पता नही चला है. कुछ दिन पहले एक वीडियो के जरिये भारत सरकार से मदद मांगने वाले पादरी टॉम उझुन्नालिल को तो सरकार IS(इस्लामिक स्टेट) से बचा लिया गया. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कोशिशों के बाद यह सफलता मिली हैं लेकिन इस पादरी को लेकर एक सन्देश सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसे सुनकर आपका खून खौल जाएगा.

Source

दरअसल यमन से अगवा किये गये पादरी को ओमान और यमन की मदद से छुडाने में काफी मदद मिली हैं इसलिए उन्हें सरकार ने धन्यवाद भी कहा है. सोशल मीडिया पर वायरल सन्देश में लिखा है कि सुषमा स्वराज ने कड़ी मेहनत करके, लगातार चर्चाएँ और दौरा करके 19 महीने से आतंकियों की कैद में पड़े पादरी टॉम को ISIS के चंगुल से छुड़ाया…वहाँ से छूटते ही ये महाशय, भारत आकर सुषमा जी को धन्यवाद देने की बजाय रोम पहुँच गए, पोप फ्रांसिस का आशीर्वाद लेने… वहाँ इन्होंने पोप के चरण पखारे, और अपने छुटकारे तथा जीवित बच जाने के लिए ईसा मसीह को धन्यवाद दिया…(पोप ने इस पादरी के कान में बताया होगा, कि इस घटना का फायदा उठाते हुए केरल में धर्मांतरण कैसे करना है)…

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पादरी टॉम उझुन्नालिल जिस चेलेस्टिन से जुड़े हुए है उसके प्रवक्ता फादर पी वर्गीस ने बताया कि वो उन्हें भारत लौटने में थोडा वक़्त लगेगा अभी वो फिलहाल वेटिकन ले जाए गये है. आपको बताते चले इसके साथ ही एक फोटो भी दिखाई गयी है और सरकार ने मान लिया है कि वो वेटिकन ले जाए गये हैं.

पादरी वेटिकन किस लिए गये है इस बात की कोई जानकारी अभी सामने नही आई है. वायरल सन्देश में दावा किया जा रहा है कि पोप फ्रांसिस का आशीर्वाद लेने के लिए गये है. इस सन्देश को फेसबुक पर शेयर करने वाले सुरेश चिपलूनकर के अनुसार ने इस बात से नाराजगी जाहिर की है कि पादरी सरकार और सुषमा जी का शुक्रिया करने के बजाय वेटिकन चले गये.