जापान से मिले 1088 करोड़ की मदद से भारत में जल्द ही बुलेट ट्रेन दौड़ने लगेगी, बताया जा रहा है कि इस मेट्रो की रफ़्तार 350 किलोमीटर तक होगी और 8 घंटे का सफ़र अब मात्र 4 घंटे में तय हो जाएगा. सभी जानते हैं कि दिन प्रति दिन भारत में भीड़ बढती जा रही है और इसको देखते हुए मेट्रो में भी काफी भीड़ बढ़ गयी है. अब जापान ट्रेन तो दे ही रहा है लेकिन उसके साथ कुछ ऐसा भी दे रहा है जिससे ट्रेन में भीड़ को कंट्रोल किया जाएगा.

 

source

भारत में भीड़ को देखते हुए लगता है कि हमें उनसे बुलेट ट्रेन के साथ-साथ कुछ और भी लेना चाहिए. दरअसल हमें जरूरत है ओशिया की जिसका अंग्रेजी मतलब है the pusher मतलब धक्का देने वाला. जापान में सबसे पहले पुशर का इस्तेमाल हुआ है और ये कोई और नहीं बल्कि हम-तुम जैसे ही इंसान होते हैं जो धक्का देकर लोगों को ट्रेन में घुसाते हैं.

source

ख़ास बात यह है कि जापान में अधिकतर छात्र इस काम को करते हैं, पीक टाइम में स्टेशन स्टाफ भी इस काम को करता है. बता दें पुशर की शरुआत अमेरिका में हुई थी लेकिन इस समय जापान में सबसे ज्यादा पोपुलर हैं पुशर. जिस तरह भारत में भीड़ मेट्रो और लोकल ट्रेन में बढ़ रही है यहाँ यह आईडिया काफी काम आ सकता है.