उत्तर प्रदेश में और केंद्र में दोनों जगह इस समय बीजेपी की सरकार है. केंद्र में नरेन्द्र मोदी और प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के हाथ में कमान हैं. पीएम मोदी देश को और सीएम योगी प्रदेश को विकास की नई ऊँचाइयों पर ले जाने के लिए कार्य कर रहे हैं. केंद्र में मोदी और राज्य में योगी जी ने अपने-अपने मंत्रियों को जिम्मेदारी सौपी हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कुछ दिन पहले हुए केन्द्रीय मंत्रीमंडल में हुए फेरबदल के बाद कुछ नए चेहरों को मोदी के मंत्रिमंडल में जगह मिली थी. इसी में एक मंत्री हैं अश्वनी चौबे.

Source

दरअसल अश्वनी चौबे मंत्री बनने के बाद बिहार जाने से पहले वाराणसी पहुंचे थे. वहां पूजा-पाठ और दर्शन करने के बाद वो वाराणसी में बने पीएम मोदी के जन सम्पर्क कार्यालय में पहुँच गये. जहाँ प्रदेश के सरकार के मंत्री डॉ.नीलकंठ तिवारी लोगों की समस्याएं सुन रहे थे.केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्वनी चौबे जब डा.नीलकंठ तिवारी के सामने जाकर खड़े हुए तो उन्होंने केंद्रीय मंत्री से पूछ लिया कि आप कौन?

Source

आपको बता दें कि योगी के मंत्री नीलकंठ तिवारी अश्वनी चौबे को पहचान नही पाए और उन्होंने पूछ लिया कि आप कौन है? यह सवाल सुनकर तो चौबे जी असहज महसूस करने लगे और कार्यकर्ता अवाक रह गये. उसके बाद एक कार्यकर्ता ने मत्री जी से मत्री का का परिचय करवाया जिसके बाद मंत्री तिवारी अपनी कुर्सी से खड़े हुए और उनका स्वागत किया. खबर मिलते ही कार्यालय प्रभारी शिवशरण पाठक ने भी आकर आवाभगत की.

Source

सके बारे में जब मीडिया ने जब केंद्रीय राज्य मंत्री से पूछा तो वो इस सवाल को टालते नजर आये लेकिन मीडिया इसका जवाब चाहती थी तो उनसे बार बार यह सवाल किया तो वो सिर्फ इतना कहकर आगे चले गये कि यूपी के मंत्री उनके पुराने परिचत हैं. अश्वनी चौबे को इस समय केंद्र में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री की जिम्मेदारी मिली हुई है.