कश्मीर में फ़ैल रहे आतंकवाद के मुद्दे पर मोदी सरकार को विपक्ष आड़े हाथों ले रहा था लेकिन मोदी सरकार ने सेना को जिस तरीके से छूट दी और सेना ने उसी जाबांजी के साथ आतंकियों के दांत खट्टे किये, वो वाकई में बेहद काबिल-ए-तारीफ है. आज के हालात ऐसे हैं कि कश्मीर में एक्टिव आतंकी संगठनों का कमांडर बनने से हर आतंकी गुरेज कर रहा है, क्योंकि जिस तरीके से भारतीय सेना ने ‘ऑल आउट’ जैसे मिशन को चलाकर इन नापाक इरादों वाले आतंकियों का खात्मा किया है उससे भारतीय सेना की जय-जयकार हो रही है. साथ में मोदी सरकार की भी सराहना हो रही, जिसने अपनी इच्छाशक्ति से सेना को खुली छूट दी.

Source

फिलहाल इस तस्वीर को देखिये कुछ साल पहले तक ये तस्वीर आतंक का पर्याय बनी हुई थी. इस तस्वीर में 10 चेहरे ऐसे थे जो कश्मीर को आतंक का अड्डा बनाने में लगे थे. इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा था और बताया जा रहा था कि ये सभी आतंकी भारत सरकार और सेना की नाक में दम कर चुके हैं लेकिन अब आपको इसके बारे में ताजा जानकारी देते हैं. बता दें कि इस तस्वीर में जितने भी आतंकवादी जन्नत की चाह में बंदूक उठाये दिख रहे हैं, उन सभी को भारतीय सेना ने मौत के घाट उतार दिया है. वायरल हो चुकी इस तस्वीर को देखकर अब आपको ख़ुशी होगी कि इस तस्वीर में दिख रहा एक भी आतंकी जिन्दा नही है.

Source

बता दें कि इस तस्वीर में बुरहान वानी के साथ जो बाकी 10 आतंकी दिखाई दे रहे हैं, उनमें से 7 को सेना ने 2015 में ही बुरहान वानी के साथ-साथ मार गिराया था. बाद में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद उसके उत्तराधिकारी के रूप में सब्जार भट्ट को कमान सौंपी गयी लेकिन भारतीय सेना ने उसे और एक अन्य को 2016 में मारा गिराया. 2015 में यह तस्वीर वायरल होने के साथ-साथ कश्मीर में आतंकवादियों के लिए प्रचार का एक साधन भी बन गयी थी. कश्मीर में सुरक्षा बलों के लिए इस तस्वीर में दिख रहे सभी आतंकी कांटे की तरह चुभ रहे थे और उन्हें ख़त्म करने को लेकर भारतीय सुरक्षा बलों के लिए नाक का सवाल बना हुआ था. आखिरकार 14 अक्टूबर 2017 को सेना और सुरक्षा बलों ने उस तस्वीर को इतिहास बना ही दिया.