इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद आरुषि-हेमराज मर्डर केस में सजा काट रहे आरुषि के माता पिता राजेश और नुपर तलवार सोमवार 16 अक्टूबर को रिहा हो जायेंगे. राजेश और नुपर तलवार ने हत्या के आरोप में डासना जेल में चार साल की सजा काटी है. तलवार दंपत्ति को जब मालूम हुआ कि सोमवार को वो रिहा हो जायेंगे तो नुपुर तलवार ने सामान्य दिनों के तरह रविवार को नाश्ता करने से पहले जेल के मंदिर में पूजा-अर्चना की और वहीँ राजेश तलवार ने सवेरे जल्दी उठते ही अपने साथी कैदियों के साथ बैठकर काफी देरतक बातचीत की.

जेल प्रशासन ने कैदियों तक यह संदेश भिजवा दिया था कि तलवार रविवार को अंतिम दिन हॉस्पिटल में आएंगे. ऐसा सुनते ही जेल के हॉस्पिटल में दांत चेक करवाने वाले कैदियों की भीड़ लग गयी, वहीँ रोज़ की तरह डॉक्टर राजेश तलवार भी रविवार को सुबह आठ बजे ही पहुंच गए थे और उन्होंने 25 कैदियों के दांतों की प्रॉपर टेस्टिंग की साथ ही आठ कैदियों के दांतों की.

आपको बता दें कि तलवार दंपती ने तो जेल में में ही डेंटल क्लिनिक का पूरा सेटअप बना रखा था. इस क्लिनिक में ही उनहोंने कई तरह के उपकरण उपलब्ध कराए थे और दोनों साथ मिलकर कैदियों के दांतों का इलाज किया करते थे. कैदियों के इलाज के दौरान उन्हें रोजाना 40 रुपये मिलते थे. तलवार दंपती ने चार सालों में 99 हजार रुपये कमाए थे, जिसे उन दोनों ने मिलकर कैदियों के कल्याण के लिए जेल प्रशासन को दान कर दिया है. तलवार दंपती द्वारा दान किये गए पैसों को देखकर जेल प्रशासन समेत सभी लोग भावुक हो गए थे.

आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि जहाँ डॉक्टर राजेश तलवार मरीजों का इलाज करते थे वहीँ डॉक्टर नूपुर तलवार ने अपना पूरा समय बच्चों और अनपढ़ महिलाओं को शिक्षित करने में बिताया. जेल से रिहा होने की बात को सुनकर जेल प्रशासन ने भी तलवार दंपती से गुजारिश की थी कि वह दोनों कैदियों के दांत के इलाज के लिए आया करें. जिसके बाद तलवार दंपती ने भी इस बात का भरोसा दिलाया है कि वे हर 15 दिनों में जेल में अपने साथी कैदियों का चेकअप करने आते रहेंगे.