जैसे ही न्यू जीलैंड के खिलाफ टी-20 मैच की सीरीज और श्री लंका के खिलाफ टेस्ट मैच की सीरीज के लिए भारतीय टीम की घोषणा सोमवार 23 अक्टूबर को हुई, उसके ठीक पहले एक आईपीएस अफसर संजीव भट्ट ने सोशल मीडिया पर एक ऐसा विवादित पोस्ट डाल दिया जिसनें इंडियन क्रिकेट टीम के मेम्बेर्स को लेकर कई बड़े सवाल खड़े कर दिए. यह सवाल इंडियन क्रिकेट टीम में किसी मुस्लिम खिलाड़ी के न होने का था. ऐसा विवादित पोस्ट के बारे में पढ़ते ही  भारत के दिग्गज स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने इस ऑफिसर को ऐसा करारा जवाब दिया जिससे कि उनकी बोलती चाहे बंद न हुई हो पर उनको मुहतोड़ जवाब ज़रूर मिल गया है.

आपको बता दें कि संजीव भट्ट गुजरात के एक निलंबित आईपीएस अफसर हैं और इन्होने अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट दोनों का सहारा लेते हुए पोस्ट किया था कि ‘क्या इस समय भारतीय क्रिकेट टीम में कोई मुस्लिम खिलाड़ी है? आजादी के बाद से ऐसा कितनी बार हुआ कि भारत की क्रिकेट टीम में कोई मुसलमान खिलाड़ी ना हो? क्या मुसलमानों ने क्रिकेट खेलना बन्द कर दिया है? या फिर खिलाड़ियों का चुनाव करने वाले किसी और खेल के नियम मान रहे हैं?

आईपीएस संजीव भट् के जवाब के इस सन्दर्भ में भारतीय दिग्गज स्पिनर हरभजन सिंह ने भी संजीव भट् के ही अंदाज़ में ट्वीट किया और लिखा कि हिंदू-मुस्लिम-सिख-ईसाई आपस में हैं भाई. क्रिकेट टीम में खेलने वाला हर खिलाड़ी हिंदुस्तानी है और उसकी जाति या रंग की बात नहीं होनी चाहिए (जय भारत). यही नहीं हरभजन सिंह के अलावा कई और लोगों ने भी संजीव के ऐसे पोस्ट के बदले खूब खरी खोटी सुनाई.