पिछले साल 8 नवंबर की शाम को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक टीवी पर आकर नोटबंदी की घोषणा कर दी थी. जिसके बाद 500 और 1000 के नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया. नोटबंदी के बाद लोगों की लंबी-लंबी कतारें बैंकों के बाहर लगी थीं. सरकार ने नोटबंदी करने के बाद इसके कई फायदे गिनाये हालांकि उसे कई आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ा.

source

अब नोटबंदी को एक साल गुजर चुका है ऐसे में ये जानना जरुरी है कि नोटबंदी को लेकर लोगों की अब क्या राय है. इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा करवाए गए एक सर्वे के अनुसार आज भी लोग मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी के पक्ष में है. समग्र रूप से आप नोटबंदी को कैसे देखते हैं ? इस सवाल के जवाब में 38 प्रतिशत लोगों ने इसे सफल बताया तो 30 प्रतिशत लोगों ने कहा कि इसका परिणाम मिश्रित रहा. केवल 32 प्रतिशत लोगों द्वारा इस असफल बताया गया.

source

हालांकि नोटबंदी के बाद नौकरियों में गिरावट की बात कही गई और इसके लिए सरकार की आलोचना भी हुई लेकिन 45 प्रतिशत लोगों का कहना है कि, इससे थोड़े समय के लिए नौकरियों में कमी आई है जबकि 32 फीसदी लोगों का मानना है कि इसका नौकरियों पर कोई असर नहीं पड़ा. ज्यादातर लोग मानते हैं कि नोटबंदी से नौकरियों पर लंबे समय तक बुरा असर नहीं पड़ेगा. इस सर्वे से साफ़ हो गया कि विपक्षी कितनी भी कोशिश कर लें लेकिन जनता आज भी मोदी सरकार के साथ है और पीएम मोदी के प्रयासों का सम्मान करती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here