29 सितम्बर 2016 को जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी तो पूरा देश ख़ुशी से झूम उठा था. पूरा देश खुश था, सबको ना सिर्फ अपनी सेना पर गर्व हुआ बल्कि पूरी दुनिया में भी बढ़-चढ़कर भारतीय सेना के कौशल की चर्चा भी हुई. इस घटना को बीते अभी एक साल ही बीता था कि भारतीय सेना ने एक बार फिर से सर्जिकल स्ट्राइक कर दी है और इस बार पाकिस्तान नही बल्कि म्यांमार में इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है. बता दें कि बुधवार को तड़के सुबह करीब 4.45 के आसपास भारतीय सेना के 80 जवानों की एक टुकड़ी ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया. इस कदम के बाद हरतरफ ही भारतीय सेना की वाहवाही हो रही है. जानकारी के लिए बता दें कि म्यांमार में भारतीय सेना ने ऐसा दूसरी बार किया है.

source

हालाँकि जहाँ पूरा देश इस सर्जिकल स्ट्राइक की ख़ुशी मना रहा है वहीं दूसरी तरफ बड़ी खबर ये आ रही है कि भले ही इस सर्जिकल स्ट्राइक में सभी भारतीय सैनिक शकुशल वापिस ज़रूर आ गए हैं लेकिन इस सर्जिकल स्ट्राइक से भारत को बड़ा नुकसान हुआ है.

source

जानिए क्या है वो बड़ा नुकसान? 

मिली जानकारी के अनुसार पिछले कुछ दिनों से शेयर बाज़ार कमजोर चल रहा था लेकिन गुरुवार को शेयर मार्किट को एक और बड़ा झटका लगा है. दरअसल भारतीय सेना द्वारा इंडो-म्यांमार बॉर्डर पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ की खबरें आने के बाद बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली है. इस मामले में अबतक मिली जानकारी के अनुसार शुरुआती खबरों के बाद ही पहले तो निवेशकों में पैनिक देखा गया. इसका नतीजा ये हुआ कि सेंसेक्स करीब 500 अंकों तक टूटा और एनएसई निफ्टी 9,750 अंकों से भी नीचे आ गया. जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल पाकिस्तान बॉर्डर पर सर्जिकल स्ट्राइक की खबरों के बाद भी बाजार में भारी गिरावट नजर आई थी.

source

मिली जानकरी के अनुसार सर्जिकल स्ट्राइक की खबरों के आने के बाद ही बाजार गिरावट के साथ ही बंद हुआ. सर्जिकल स्ट्राइक की खबर मिलने के बाद सेंसेक्स 440 अंक से गिरकर 31,159 अंकों पर बंद हुआ और वहीँ निफ्टी के 135 अंक गिरकर 9,735 पर बंद होने की खबर आ रही है. सिर्फ इतना ही खबर ये भी है कि गुरुवार को सेंसेक्स 30 जून के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया था.  इस ऑपरेशन को लेकर मिली जानकारी के मुताबिक भारतीय सेना ने इंडो-म्यांमार बॉर्डर के लांग्खू गांव में सुबह करीब पौने पांच बजे ये कार्रवाई की है. भारतीय सेना द्वारा की गयी इस कार्रवाई में नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नगालैंड (NSCN) (K) के उग्रवादियों के कई कैंप बर्बाद हुए हैं. इस आक्रामक कार्रवाई में कई आतंकियों के मरने की भी खबर है, और म्यांमार सरकार की तरफ से भारतीय सेना की इस कार्रवाई की आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि भी कर दी गयी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here