इस दीवाली मेक इन इंडिया के को ध्यान में रख कर भारतवासी दीवाली मनाएंगे. इस बार ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि आम लोग चीनी माल व वस्तुओं से दूरी बनायेंगे और अपना देश का स्वदेशी माल अपनाएंगे. बता दें कि हाल ही में हुए एक सर्वे के मुताबिक यह अनुमान जताया जा रहा है. एसोचैम की तरफ से हुए सर्वे में सामने आया है कि इस दीवाली चीनी उत्पादों की बिक्री में 40-45 फीसदी तक की कमी आ सकती है.

Source

एसोचैम ने किया सर्वे

एसोसिएटेड चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ़ इंडिया ने सोशल डेवलपमेंट फाउंडेशन के साथ मिलकर यह सर्वे पूरा किया. इस सर्वे में में नतीजे यह निकल कर आये कि इस दीवाली बाजार पर चीन विरोधी हवा हावी है. इसकी वजह से इस बार लोग स्वदेशी सामान खरीदने पर ध्यान दे रहे हैं. बता दें कि पिछले साल के मुताबिक इस बार चीनी उत्पादों की बिक्री पर 45 फीसदी तक की कमी आ सकती है.

Source

इन सामान पर पड़ेगा असर 

सर्वे के अनुसार चीनी गिफ्ट, लैंप, डेको‍रेटिव लाइट्स, रंगोली, गणेश और लक्ष्मी माता की मूर्तियां समेत कई अन्य उत्पादों पर इसका असर पड़ेगा. बता दें कि इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिकसामान जैसे चीन के कंपनियों के मोबाइल और बाकी अन्य चीनी सामानों की भी बिक्री कम होगी.

Source

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह सर्वे देश के कई बड़े शहर जैसे दिल्ली, चेन्नई, बेंगुलुरु, भोपाल, हैदराबाद, लखनऊ, जयपुर, मुंबई समेत कई शहरों में किया गया. जिसमे यही सामने आया कि लोग चीनी उत्पादों के मुकाबले भारतीय उत्पाद खरीदना पसंद कर रहे हैं.

Source

चीनी उत्पादों से कड़े रुख की ये है वजह 

 

भारत-चीन के बीच लगातार चल रही तनातनी को देखते हुए भारतवासियों ने यह फैसला लिया है. चीन अपनी घटिया हरकतों से बाझ आने का नाम नहीं ले रहा है. डोकलाम को लेकर चीन ने कई बार भारत को आँख दिखायी लेकिन भारतीय सेना भी उनको जवाब देने के लिए सीमा पर डटी रही. यही वजह हैं कि भारतीय लोगों का चीनी उत्पादों को लेकर कड़ा रुख देखने को मिल रहा है. लोग मेक इन इंडिया के तहत बने सामानों को खरीदने पर जोर दे रहे हैं. इसलिए दीवाली पर होने वाली बिक्री को देखते हुए चीन को काफी नुकसान का सामना करना पड़ेगा. कहा जा रहा है कि इस बार दीवाली भारत में मनायी जायेगी और चीन रोयेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here