यह खबर NEWS 18 INDIA से ली गयी है 

दिल्ली-एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पटाखों की खरीदी और बिक्री पर रोक लगाये जाने के बाद यह मामला विवादों में हैं. कोर्ट के इस फैसले के बाद कई लोगों ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है. अधिकतर लोग पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिए कोर्ट के इस फैसले को मानने के लिए तैयार हैं लेकिन इस फैसले को मानने के बाद भी अधिकतर लोगों के मन में एक टीस है कि क्या सिर्फ दिवाली के पटाखे जलने से ही प्रदुषण फैलता है? अब इसी मामलें को लेकर एक मासूम से बच्ची से सुप्रीम कोर्ट एक ख़त लिखा है.

Source

दरअसल दिल्ली-एनसीआर में आने वाले उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ से एक बच्ची ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखकर पटाखे के उपर लगे प्रतिबंध में छूट देने की मांग की है. हापुड़ के पिलखुआ की रहने वाली आठ वर्षीय लुभा पंडित कक्षा तीन में पढ़ती हैं उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक चिट्ठी लिखकर बच्चों के लिए कुछ छूट देने की एक भावनात्मक प्रार्थना की हैं.

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को लिखे गये पत्र में बच्ची ने कहा कि ‘जज अंकल, दिवाली के पावन अवसर पर अत्यंत हर्षोल्लास से मनाए जाना है. इस त्यौहार पर बच्चों की खुशियों के लिए कुछ फुलझड़ी को छोड़ने के लिए छूट प्रदान करें.’ प्रदूषण तो बहुत सारे वाहन भी सालभर करते है, लेकिन दीपावली तो एक दिन का ही त्‍यौहार है. यह दिन बच्‍चों के लिए खास होता है. इसलिए इस दिन बच्‍चों को कुछ छोटे पटाखे जलाने को लेकर परमिशन होनी चाहिए.

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली एनसीआर में दिवाली के पटाखों से फैलने वाले प्रदुषण को ध्यान में रखते हुए 1 नवम्बर तक पटाखों की खरीदी और बिक्री पर रोक लगा दी है. इससे उन कारोबारियों को भारी नुकसान होने की संभावना है जिन्होंने पटाखों के स्टॉक जमा कर लिए थे. ऐसे में कुछ व्यापारी ऑनलाइन शॉपिंग के जरिये गुप्त रूप से पटाखे बेचने की तैयारी कर रहे हैं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here