दी वायर ने अमित शाह के बेटे जय शाह की कम्पनी ‘टेम्पल इंटरप्राइजेज’ के बारे में एक आर्टिकल में लिखा कि इस कम्पनी को एक साल के दौरान करीबन 16000 गुना से ज्यादा का फायदा हुआ है, बस फिर क्या था विपक्ष   राशन-पानी लेकर जय शाह और उनके पिता अमित शाह को घेरने में जुट गया. इन सबके साथ ही निशाना पीएम मोदी थे जो ना खाऊंगा और ना खाने दूंगा की बात करते हैं. बता दें कि दी वायर का कहना है कि “कंपनी में यह वृद्धि भाजपा के 2014 में सरकार में आने के बाद हुई है.” जहां विपक्ष को मौका मिला है अपनी राजनीति करने का तो वहीं मोदी सरकार के बड़े दिग्गज नेता जय शाह के बचाव में उतर आये हैं. इसमें केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल और गृहमंत्री राजनाथ सिंह का भी नाम शामिल है, जिन्होंने जय शाह के बचाव में बयान दिए हैं.

source

 

अब अमित शाह ने इस मुद्दे पर चुप्पी तोड़ते हुए जो बयान दिया है उसे सुनने के बाद विरोधियों को सांप सूंघ जायेगा.  अमित शाह ने कहा यदि उसने कुछ गलती की होती तो वह अपनी जांच खुद कराने की मांग नहीं करता. शाह ने कहा कि उनके बेटे में मामले की जांच कराने की बात कही है. उन्होंने आगे कहा कंपनी का सरकार से कोई लेना देना नहीं है. शाह ने कहा कि जय की कंपनी ने बोफोर्स जैसा घोटाला नहीं किया है. आपको बता दें यह पहले बार है जब अमित शाह ने अपने बेटे पर खुलकर बयान दिया है.

source

अमित शाह ने आगे गुजरात में आने वाले चुनाव की बात भी की और कहा कि गुजरात की जनता जानती है बीजेपी के राज में गावं-गावं में बिजली पहुंची है लेकिन 1995 तक जब कांग्रेस थी तो गुजरात विकास से दूर था. रोहिंग्या मामले पर बोलते हुए शाह ने कहा कि हमारी सरकार मानवाधिकार की पक्षधर है.

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here