नॉएडा सेक्‍टर-25 स्थित जलवायु विहार का सबसे बहुचर्चित केस है आरुषि और हेमराज हत्या कांड. आरुषि की हत्या के आरोप में आरुषि के माता पिता आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे. इस केस को 9 साल बीत गए हैं, लेकिन अभी तक इस केस से जुड़ा कोई भी मुख्य कारण सामने नहीं आ पाया है और हर किसी के जहन में एक ही सवाल है कि आरुषि को किसने मारा? डॉ. राजेश व नूपुर तलवार को 12 अक्टूबर को बेल मिल गयी है, और दोनों दंपत्ति बेहद ही खुश हैं.

वहीँ न्यूज़ 18  को दिए गए इंटरव्यू में डासना जेल की वॉर्डन, पुष्पा शर्मा ने आरुषि की माँ नुपुर तलवार को लेकर कई बड़े खुलासे किये हैं. जी हाँ पुष्पा कहती है कि कल जब 12 अक्टूबर को जिस वक्त कोर्ट का फैसला आया उस वक्त नुपुर तलवार न्यूज़ ही देख रही थीं और साथ ही भगवान् का ध्यान भी कर रही थीं. कोर्ट का जजमेंट आया तो वो खुश हो गयीं और बेटी की याद में उनकी आँखों से आंसू भी निकलने लगे.

जेल में रहकर करती थीं कौन सा काम?

पुष्पा शर्मा ने नुपुर के व्यक्तित्व के बारे में बताते हुए कहा कि नुपुर का व्यवहार जेल में बहुत अच्छा था. नुपुर किसी से भी ज्यादा मतलब नहीं रखती थीं, उनको अपने काम से ही मतलब रहता था. जैसे की नुपुर डेंटल सर्जन थीं तो वो जेल में भी महिला मरीज़ों का इलाज करती थीं. नुपुर अपने इस काम का कोई भी पैसे नहीं लेती थीं यानी बिलकुल फ्री में इलाज करती थी वो.

जब जेल से बाहर निकल जाउंगी तो करुँगी यह काम- नुपुर

पुष्पा शर्मा ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि नुपुर कहा करती थीं कि जब भी वे जेल से बाहर निकलकर जाएँगी, तब भी वे अपनी बेटी के लिए यह लड़ाई लड़ती रहेंगी और आरुषि को इन्साफ दिलाकर ही दम लेंगी. आपको बता दें कि आरोपियों को पकड़वाना ही नुपुर का मुख्य उद्देश्य है क्योंकि उनकी एक ही बेटी थी, जो की उनके लिए बेटे से कम नहीं थी और वो ही उन दोनों पति पत्नी के जीने की वजह थी.

देखें वार्डन का वीडियो

#Video

फैसला आने के बाद नूपुर तलवार बेहद खुश थीं: पुष्पा शर्मा (वॉर्डन, डासना जेल)

Posted by News18 India on 2017 m. spalis 12 d.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here