भारत के लोगों को सीमा पार से आने वाले आतंकी नए नए जख्म देते रहते हैं. भारतीय सेना और बीएसएफ सीमा पर 24 घंटे निगरानी करती है. इसके बावजूद सीमा पार से आतंकी सीमा से जुड़े स्थानों पर रहने वाले स्थानीय लोगों की आड़ में देश  में घुस आते हैं और दहशत मचाते हैं लेकिन 28-29 सितम्बर को वो रात कोई नही भूल सकता जब सेना के जवानों की टुकड़ी सीमा पार कर आतंकवादियों के कैम्प को धवस्त कर कई आतंकियों की मार गिराया था. इस ऑपरेशन के अगले ही दिन म्यांमार सरकार की तरफ से भी इस बात की पुष्टि की गयी थी कि सच में सर्जिकल स्ट्राइक हुई है और उन्होंने इसकी रिपोर्ट भी मांगी.

source

इन दिनों बीच में एक खबर आई थी कि म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों ने 28 हिन्दुओं की हत्या की थी जिसके चलते भारत सरकार गुस्से में आई और उन्होंने कड़ी कार्यवाही की, इतना ही नहीं भारत ने  कहा है कि इस मामले में  म्यांमार से उम्मीद है कि म्यांमार इस अपराध में शामिल लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई करेगा और उन्हें न्याय के कटघरे में खड़ा करेगा. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि म्यांमार के स्टेट काउंसिलर के कार्यालय से जारी बयान के मुताबिक इन कब्रों में मिलीं सभी लाशें हिंदुओं की हैं.

source

इस मामले को लेकर भारत सरकार किसी भी तरह से लापरवाही नहीं बरतेगी और रोहिंग्या का मुद्दा इस समय पूरे देश में छाया हुआ है, ऐसे में सरकार का यह कदम काफी बेहतरीन है. उम्मीद है जल्द रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे से भारत को राहत मिलेगी. विपक्ष ऐसे में भी घटिया राजनीती से बाज नहीं आ रहा है और लगातार भारत सरकार समेत सेना पर भी सवाल उठा रहा है जो वाकई दुखद है. देश की जनता को ऐसे में अपनी सूझ-बूझ से काम लेना चाहिए. भारत की तरफ से म्यांमार को साफ़ तौर पर कह दिया गया है कि हिन्दुओं के कब्र का कोई भी दोषी बचना नहीं चाहिए !

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here