पाकिस्तान के कब्जे में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाये जाने के बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत में इस मुद्दे को उठाया. वहां भारत कामयाब भी हुआ था. कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगा दी गयी लेकिन शायद पाकिस्तान पर इसका असर नही पड़ रहा है. यूएन महासभा में भारतीय विदेश मंत्री द्वारा पाकिस्तान को लगाए गये फटकार और जवाब में पाक्सितान द्वारा दिखाई गयी फर्जी फोटो से हुई किरकिरी के बाद पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. जो भारत पर दबाव बनाने के लिए इस तरह के कदम उठाने की धमकी दे रहा है.

Source

दरअसल पाकिस्तान के पाकिस्तानी संस्था आईएसपीआर {इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस (ISPR)} ने दावा किया है कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव पर जल्द फैसला ले सकता है. मेजर जनरल आसिफ गफूर ने मीडिया से बात करते हुए कहा  कि कुलभूषण जाधव के दया याचिका अपने अंतिम चरण में है और जल्दी ही पाकिस्तान के लिए एक अच्छी खबर आने वाली है.

Source

आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत  की 10 सदस्यीय पीठ ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी थी. जिसके जवाब में पाकिस्तान ने कहा था कि वियना समझौते में कंसुलर संपर्क से जुड़े प्रावधान आतंकी गतिविधियों में शामिल किसी जासूस के लिए नहीं है. पाकिस्तान अब कुलभूषण के ज़रिये भारत पर दबाव बनाना चाहता है. इसे पाकिस्तान की नीच हरकत के अलावा और कुछ नही कहा जा सकता.

Source

46 वर्षीय कुलभूषण जाधव ने भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी हैं. 3 मार्च को पाकिस्तान ने उन्हें गलत तरीके से गिरफ्तार कर लिया था. पाकिस्तान ने जाधव को राजनयिक मदद पहुंचाने के प्रस्ताव को ठुकराता आ रहा है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने  दावा किया है कि पेशावर के स्कूल में आतकी हमला करने वाले आतंकी के बदले में कुलभूषण जाधव को रिहा करने का प्रस्ताव आया था. हालाँकि उन्होंने इस मामले में किसी का नाम नही लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here