गुजरात चुनाव में आपने देखा होगा कि कैसे अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करके पीएम को अपशब्द कहे गये, कैसे अहमद पटेल को सीएम बनाने की मांग वाले पोस्टर सड़कों पर लगाये गये और उनके समर्थन में पाकिस्तान से भी मांग उठी. ये सब सिर्फ इसलिए हो रहा है कि गुजरात में बीजेपी को हराया जाय और मुस्लिम वोटों का ध्रुवीकरण भी हो सके. ये सारा खेल मुस्लिम वोटों के लिए भी हो सकता है क्योंकि हिन्दू वोटों के लिए राहुल गांधी मंदिर-मंदिर जा ही रहे हैं. फ़िलहाल भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस का दामन थाम बैठे, जिग्नेश मेवाणी, जो खुद को दलित नेता भी कहते हैं, उनकी रैली में कुछ ऐसा हुआ कि बवाल मचा हुआ है.

Source

दरअसल एक वीडियो सामने आया है जिसमें जिग्नेश मेवाणी मोदी विरोध में इतना आगे बढ़ गये कि वो लोगों से अल्लाह-हु-अकबर का नारा लगवा रहे हैं. वो कांग्रेस समर्थन में मोदी का विरोध करते-करते इतना आगे बढ़ गये कि जुबान फिसल गयी और वहां मौजूद भीड़ ने अपना काबू खो दिया. प्रचार के दौरान उन्होंने कहा कि “वो अगर कहते हैं कि पांच बार जय श्रीराम बोलो तो मैं कहता हूं कि 6 बार अल्लाह-हु-अकबर बोलो”, जिग्नेश की बात पूरी ख़त्म भी नही हुई थी कि तभी भीड़ से मोदी-मोदी की आवाज आने लगी.

इंडिया टीवी की खबर के मुताबिक जिग्नेश मेवाणी अपने विधानसभा क्षेत्र वडगाम में प्रचार कर रहे थे, वो पीएम मोदी पर अपने तंज से हमला करना चाह रहे थे, जिसके चक्कर में उन्होंने भगवान श्रीराम और अल्लाहू अकबर का मुद्दा उठाया, लेकिन वहां मौजूद लोगों ने उन्होंने बेहतर तरीके से जवाब दिया. इस वाकये ने साफ़ कर दिया कि हो सकता है कि बीजेपी से उनका मनमुटाव हो लेकिन इतना भी नही है कि जय श्रीराम की जगह अल्लाह-हू-अकबर बोलने लगें.

वीडियो