देश में इस समय बाबा-साधुओं को लेकर आये दिन कुछ ना कुछ मामले सामने आते रहते हैं. ऐसा ही एक मामला बनारस से आया है. बता दें कि अभी बीते कुछ दिन पहले ये बाबा कासगंज जिले में स्थित पवित्र तीर्थ नगरी सोरों के पुरोहितों के खिलाफ फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहा था. जिसके बाद तीर्थ पुरोहितों का गुस्सा फूट पड़ा.
बस फिर क्या था तीर्थ स्थल के पुरोहितों में आक्रोश पैदा हो गया और सभी लोगों ने एकत्रित होकर माधवानंद के खिलाफ शहर के मुख्य चौराहे पर नारेबाजी करते हुए पुतला फूंका है.
बताया जा रहा है कि ये बाबा बनारस में एक संस्कृत विद्यालय का संचालन करता है. ये बाबा शहर के सबसे बड़े मंदिर वराह भगवान की पूजा करने वाले आचार्य  पं. नरेश त्रिगुणायत की फ्रेंड लिस्ट में है. दो दिन से ये लगातर तीर्थ के पुरोहितों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहा था.सभासद अमित अनाड़ी के नेतृत्व में प्रशांत तिवारी, मुकेश निर्भय, लकी पाराशरी, निशांत वशिष्ठ, शिवांश तिवारी, दुर्गा शंकर तिवारी और निर्मल तिवारी सहित कई तीर्थ पुरोहितों ने एकजुट होकर शहर के चौराहे पर नारेबाजी करते हुए पुतला फूंका है. बाबा की इस आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद लोगों में काफी आक्रोश है. शहर के लोगों का कहना है कि पुरोहितों को अपमानजनक शब्द बोलना बिल्कुल गलत है. तीर्थ पुरोहितों ने प्रशासन से इसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाई करने की मांग की है. बाबा की इस टिप्पणी से तीर्थ के लोगों की भावनाओं को आहत पहुंची है.