पीएम मोदी को भी नहीं रही होगी इस बात की उम्मीद कि गोरखपुर में बच्चों की मौत पर अमित शाह दे देंगे ऐसी टिप्पणी

गोरखपुर में बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में उस वक्त कोहराम मच गया जब लगातार मासूम बच्चों की मौत होने की ख़बरें आने लगी. ख़बरों का सिलसिला ऐसे चलता रहा कि वो 12 अगस्त की सुबह तक 30 और दोपहर तक 63 तक चला गया. परिजन रोते बिलखते मेडिकल कॉलेज परिसर में दिखाई दे रहे थे लेकिन उनकी सारी उम्मीद जा चुकी थी. कहा जा रहा है कि ये हादसा नही एक हत्या है लेकिन कुछ तथ्य ऐसे भी हैं जिसपर सोचना जरुरी है.

source

गोरखपुर में इतने अधिक बच्चों की मौत के बाद चारों तरफ हड़कंप मच गया है और इस एक घटना ने न जानें कितने लोगों को झिंझोर कर रख दिया है. सूत्रों की मानें तो इतनी अधिक संख्या में बच्चों की मौत इसलिए हुई क्योंकि अस्पताल में ऑक्सीजन नहीं था.

source

आपको ये जानकर हैरानी होगी की तीन दिन पहले ही यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वहाँ का दौरा किया था. प्रदेश के मुख्यमंत्री के दौरे के बाद भी अस्पताल प्रशासन ने कोई सुधार नहीं किया उनका लापरवाही भरा रवैया जैसा था वैसा ही बना रहा. इस लापरवाही का अस्पताल प्रशासन पर तो कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन उनकी इस लापरवाही से कई मासूमों की जान चली गई. हालांकि अस्पताल प्रशासन ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से मौत की बात को सिरे से नकार रहा है.

source

पीएम मोदी भी इस घटना से इतने दुखी थे कि उन्होंने राज्य सरकार से 63 बच्चों की मौत की रिपोर्ट मांगी थी और इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल के साथ यूनियन हेल्थ सेक्रेटरी को गोरखपुर भी भेजा था ताकि असलियत तक पंहुचा जा सके. पीएम मोदी इस घटना को लेकर इतना ज्यादा चिंतित दिख रहे थे कि उन्होंने एक ट्वीट करके जनता को आश्वासन भी दिया था कि “इस मामले पर मेरी नजर है. मैं लगातार केंद्र और राज्य सरकार के अधिकारियों से संपर्क में हूं.”

source

इतना ही नहीं जैसे ही पीएम मोदी ने ट्वीट किया और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फ़ोन कर के कुछ वार्तालाप की तो कुछ ही देर में प्रदेश का प्रशासन हरकत में आ गया था और इस मामले में सबसे पहले बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल राजीव मिश्रा को यूपी सरकार ने सस्पेंड कर दिया था और वहीँ सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि , “इस मामले में अब जवाब मांगने की कोई गुंजाइश नहीं है. अब किसी से भी यह नहीं पूछा जायेगा कि क्या हुआ, कैसे हुआ.. इसकी जांच की जा रही है और दोषियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा.”

source

बाबा राघव दास अस्पताल में बच्चों की मौत पर नेताओं की बयानबाजी बंद होनें का नाम नहीं ले रही है. आये दिन कोई न कोई नेता कुछ न कुछ बयानबाजी करता ही रहता है. सभी नेता अपनी राजनीति की रोटियाँ सकने में लगे हुए हैं, लेकिन कोई भी उन मासूमों की तरफ ध्यान नहीं दे रहा है जिन्होनें इस दुनिया को अलविदा कह दिया है और उनके चले जानें से ना जानें कितने घरों के दिए बुझ गए हैं.

source

इस बीच जहाँ पीएम मोदी और सीएम योगी दोनों मिलकर मामले को सुलझानें की कोशिश कर रहे थे और ये दिखाना चाह रहे थे कि आरोपी जो भी होगा उसे सज़ा मिलेगी वहीँ आज बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने एक ऐसा विवादित बयान दे दिया है जिसकी किसी को उम्मीद भी नहीं रही होगी.

source

दरअसल अमित शाह बेंगलुरु में एक कार्यक्रम को सम्भोधित करने गए थे और वहां जब उनसे इस घटना को लेकर सवाल किये गए तो उन्होंने कहा कि ‘ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले भी भारत जैसे बड़े देश में बहुत सारे हादसे हुए हैं.’

source

वहीँ जब अमित शाह से कहा गया कि गोरखपुर हादसे को लेकर कांग्रेस नेता बीजेपी से इस्तीफ़ा मांग रही है तो इसपर आप क्या कहना चाहोगे तो इस बात पर भी अमित शाह ने भी कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस का काम ही है सिर्फ इस्तीफा मांगना.

source

आपको बता दें कि अमित शाह से पहले भी यूपी में स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बच्चों की मौत पर विवादित बयान देते हुए कहा था कि बच्चों की मौत का कारण सिर्फ ऑक्सीजन की कमी नहीं है. जिस वक्त ऑक्सीजन सप्लाई नहीं थी, उस वक्त ये मौतें नहीं हुईं.

Facebook Comments