सैनिकों ने पकड़े IS के आतंकी और अर्धनग्न करके करवाया ऐसा काम कि..

मानवता के खिलाफ़ काम करने वाले आतंकवादियों पर कहर बनकर बरसे इराक के सैनिक 

मानवता को शर्मसार करने वाले आतंकी लोगों के साथ ऐसे व्यवहार करते हैं कि किसी की भी रूह कांप जाए. अपने स्वार्थ के लिए ये आतंकी हर सीमा लांघ जाते हैं. ये लोग औरतों, बूढों और बच्चों तक को अपना निशाना बनाने में नहीं चूकते. एक वक्त था जब इन आतंकवादियों ने हर जगह कहर ढाया लेकिन अब वक्त बदल रहा है और सारी दुनिया मिलकर इन आतंकियों का सफाया करने में लग गयी है.

source

आधा नंगा करके घुमा रही है सेना आतंकियों को

सारी दुनिया में निहत्थे और मासूम लोगों पर जुल्म ढाने के लिए चर्चित संगठन ‘इस्लामिक स्टेट’ के आतंकवादियों को इराक की सेना उनकी ही भाषा में उत्तर दे रही है. मोसुल जो कि इराक का एक बहुत ही महत्वपूर्ण शहर है को आज़ाद कराने के बाद इराक के सैनिक आतंकवादियों को आधा नंगा करके वहां की गलियों में घुमा रहे हैं. हम आपको कुछ तस्वीरें दिखाने जा रहे हैं जिन्हें देखकर आपको पता चल जाएगा कि मानवता को शर्मसार करने वाले आतंकी हमेशा बच कर नहीं रख सकते.

source

इराक के सैनिक कहर बनकर IS (इस्लामिक स्टेट) के आतंकियों पर बरसे हैं और उनको आधा नंगा कर के मोसुल की गलियों के चक्कर लगवा रहे हैं और आतंकवादियों की अक्ल ठिकाने लगा रहे हैं. कुछ तस्वीरों में इराक के सुरक्षा बल आतंकवादियों को बांधकर उनकी पिटाई करते भी दिख रहे हैं, और जो आतंकी लोगों पर बर्बरता करने में घबराते नहीं थे अब वो सुरक्षा बालों से दया की भीख मांग रहे हैं.

source

मोसुल से खदेड़े गए आतंकी 

सोमवार को इराकी सुरक्षा बालों ने इस्लामिक स्टेट को मोसुल से खदेड़ दिया था और अब तक भी वो आतंकियों के ठिकानों को निशाना बना रही है और लगातार आतंकियों के ठिकानों पर बमबारी कर रही है. इराक के सुरक्षा बल आतंकियों को पूरी तरह से मिटाना चाहते हैं.

source

कैसे बना इस्लामिक स्टेट 

अब हम आपको बताते हैं कि इस्लामिक स्टेट अस्तित्व में कैसे आया. सद्दाम हुसैन की मृत्यु के बाद अमेरिका सेना इराक छोड़कर चली गई. अमेरिका की सेना के इराक से जाते ही इराक में वर्चस्व जमाने के लिए छोटे-मोटे गुटों में झगडे शुरू हो गए इन्हीं गुटों में से एक था अल-कायदा जिसका इराक में चीफ़ था अबू बकर अल बगदादी. अमेरिकी सेना के जाते ही इराक में अल-कायदा के चीफ़ बगदादी ने अल-कायदा इराक का नाम बदल दिया और इसका नया नाम रख दिया इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक.

source

इसके बाद बगदादी ने सद्दाम हुसैन की सेना के कमांडरों और सिपाहियों को अपने गुट में मिलाना शुरू कर दिया. वक्त के साथ और लोग भी इस संगठन में शामिल होते गए और इन लोगों में बड़ी संख्या में सद्दाम हुसैन की सेना के अधिकारी भी मौजूद थे. जब ये गुट मजबूत हो गया तो इसने पुलिस और सेना को निशाने पर लेना शुरू कर दिया. इसके बाद भी बगदादी को इराक में वो सफलता नहीं मिली जिसकी उसे उम्मीद थी. मायूस होकर बगदादी ने सीरिया का रुख कर दिया वहां पर अल-कायदा और सीरिया के राष्ट्रपति अल-असद से मोर्चा ले रहे थे.

source

इसके बाद सीरिया में सफलता न मिलने के कारण बगदादी ने 2013 में हारने की बात कह दी और दुनिया भर के देशों से मदद की बात कही जिसके बाद हफ्ते भर में अमेरिका, इजराइल, तुर्की और सऊदी अरब ने पैसे और ट्रेनिंग का इंतजाम करवा दिया. इस तरह बगदादी ने पूरी दुनिया को मुर्ख बनाकर एक आतंकी संगठन चलाना शुरू कर दिया.

Facebook Comments