सरकार से अलग होने के बाद बीजेपी ने बनाया ये ‘खास प्लान’

19 जून को जब भारतीय जनता पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में चल रही गठबंधन की सरकार से अपना समर्थन वापस लिया तो देश भर में इसकी चर्चा शुरू हो गयी. सोशल मीडिया पर तो बीजेपी के इस कदम की खूब सराहना भी हो रही है. दरअसल पीडीपी जो अलगाववादियों से हमदर्दी रखती है, उसके साथ सरकार बनाने को लेकर कुछ लोग बीते दिनों में बीजेपी की आलोचना भी कर रहे थे लेकिन अब कश्मीर के हालातों को देखते हुए जब बीजेपी ने पीडीपी से अपना समर्थन वापस ले लिया तो हर तरफ बीजेपी प्रमुख अमित शाह और उनकी पार्टी की तारीफ हो रही है.

बीजेपी ने फिर से साबित किया है कि देशहित सर्वोपरि है सत्ता का सुख नहीं (फोटो सोर्स)

सरकार से अलग होने के बाद बीजेपी ने बनाया ये ‘खास प्लान’

बता दें कि कश्मीर में अब राज्यपाल शासन का रास्ता साफ़ हो गया है. 20 जून को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी ने जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लगाने की मंजूरी भी दे दी. इसके बाद साफ़ है कि जम्मू-कश्मीर में किसी की भी सरकार नहीं है, इसको देखते हुए अब कश्मीर में पाकिस्तान के इशारों पर अपने स्वार्थ का खेल चला रहे अलगाववादियों की हालत ख़राब है. अब जबकि बीजेपी भी सरकार का हिस्सा नहीं है तो ऐसे में बीजेपी की तरफ से एक ‘खास प्लान’ तैयार किया गया है जिससे अलगावादियों की हालत तो ख़राब होगी ही साथ ही उनके चेहरे भी बेनकाब हो जायेंगे.

महबूबा मुफ़्ती अलगाववादियों की हमदर्द बनने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन बीजेपी ने उनके सपनों पर एक झटके में पानी फेर दिया (फोटो सोर्स)

बीजेपी रविवार को करने जा रही है कुछ ऐसा

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में महबूबा मुफ़्ती की सरकार से बाहर होते ही भाजपा ने अपने पत्ते खोलने शुरू कर दिए हैं. खबर है कि रविवार यानि 24 जून से बीजेपी अलगाववादियों के खिलाफ एक आन्दोलन की शुरुआत करने जा रही है. इस आन्दोलन की शुरुआत जम्मू से होगी.

पाकिस्तान के इशारों पर कश्मीर में बैठे अलगाववादी अशांति फ़ैलाने का काम करते हैं (फोटो सोर्स)

इस आन्दोलन के बारे में बताया जा रहा है कि यह अलगाववादियों के खिलाफ होगा और इसमें अलगावादियों की असली सोच और उन्हें जम्मू-कश्मीर की जनता के सामने बेनकाब किया जायेगा. न्यूज़24 के जाने माने एंकर मानक गुप्ता ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर यह जानकारी दी.

एंकर मानक गुप्ता का ट्वीट

वैसे जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने में हिस्सेदारी करते हुए बीजेपी की सोच थी कि वो देश विरोधी ताकतों को मुंहतोड़ जवाब देगी और आतंकवाद पर लगाम लगाएगी. बीजेपी का ये प्लान कामयाब जरूर होता लेकिन इस प्लान के बीच महबूबा मुफ़्ती की राजनीति आ रही थी.

महबूबा मुफ़्ती चाहती थीं कि..

महबूबा मुफ़्ती नहीं चाहती थीं कि पत्थरबाज़ों पर कोई कड़ी कार्रवाई हो. महबूबा मुफ़्ती चाहती थी कि केंद्र सरकार कश्मीर के हालत पर अलगाववादियों से बात करे, लेकिन केंद्र सरकार की तरफ से साफ़ कर दिया गया था कि अलगाववादियों ने बात करने के सभी मौके गँवा दिए हैं, और अब मोदी सरकार उनसे बात नहीं करेगी. महबूबा मुफ़्ती की तरफ से आ रही ऐसी तमाम दिक्कतों की वजह से बीजेपी ने पीडीपी से नाता तोड़ लिया.

मानक गुप्ता के इस ट्वीट पर लोगों ने बीजेपी के समर्थन में जबरदस्त रिप्लाई किये:

आपके लिए एक सवाल

आपको क्या लगता है रविवार को शुरू हो रहे बीजेपी के इस आन्दोलन से अब अलगाववादियों के अच्छे दिन जाने वाले हैं ?

Facebook Comments