ओवैसी की तरफ से आई धमकी -“जबरदस्ती किया तो भुगतना पड़ेगा अंजाम”

देशभर में पिछले कुछ महीनो से देशभक्त और देशद्रोही के बीच में बड़ा बवाल मचा हुआ है. कुछ नेता ऐसे है जो भारत माता की जय नही बोलना चाहते, कुछ ऐसे है जो वन्दे मातरम नही बोलना चाहते. बोलते नही यह अलग बात है लेकिन ये नेता खुले आम धमकी देते है कि नहीं बोलेंगे. इनके सामने तर्क है कि इस्लाम इसकी इजाजत नही देता है. इस्लाम इसकी इजाजत दे या न दे पर इनका कहना तो यह भी है कि कि हम वन्दे मातरम और भारत माता की जय बोलने के लिए बाध्य नही है. बात तो सही है पर क्या इस्लाम जिन चीजों की इजाजत नही देता क्या ए मुसलमान नेता वो सबकुछ नही करते? लेकिन मुंबई के महानगर पालिका ने जो शुरुवात की है उसे सुनते ही इन नेताओं की नीद हराम हो जाएगी!

Source

दरअसल हमारे देश के ही कुछ नेता ऐसे है जो भारत के सम्मान में भारत माता कि जय बोलने से इंकार करते है जो वन्दे मातरम इसलिए नही बोलते क्यूंकि उनके अनुसार इस्लाम इसकी इजाजत नही देता है. लेकिन इस्लाम तो बहुत कुछ करने की इजाजत नही देता वो सबकुछ भी छोड़ देना चाहिए लेकिन सच बात तो यह कि ये नेता बस खुद को मुसलमानों का मसीहा साबित करने में लगे रहते है.

Source

कई बार इन मुस्लिम नेताओं को उलटे मुंह की भी खानी पड़ी है. कुछ दिन पहले ही मुसलमानों ने अपने खून से भारत माता की जय लिखकर इन नेताओं को सबक सिखा दिया था. इसी सिलसिले नें मुंबई की महानगर पालिका ने एक कानून बनाया है.

Source

मुंबई महानगर पालिका द्वारा बनाये गये इस कानून के अनुसार मुंबई के सभी बीएमसी स्कूलों में सप्ताह में कम से कम दो दिन वन्दे मातरम् गाना अनिवार्य है. आपकी जानकरी के लिए बता दें यह कानून पर अभी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को आखिरी फैसला लेना बाकी है.

Source

ऐसे में अगर मुख्यमंत्री द्वारा इस कानून  को हरी झंडी  मिल  जाती है तो बीएमसी के  भी स्कूलों में वन्दे मातरम गाना अनिवार्य हो जाएगा. इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट ने तमिलनाडु के सभी स्कूलों में सप्ताह में कम से कम 2 बार वन्दे मातरम गाना अनिवार्य किया है.

Source

दरअसल अभी कुछ दिन पहले ही ओवैसी की पार्टी के विधायक और वारिस पठान और बीजेपी के विधायक के बीच मुंबई विधानसभा के गेट पर वन्दे मातरम् बोलने को लेकर काफी विवाद हो गया है जिसमें वारिस पठान किसी भी कीमत पर वन्दे मातरम न बोलने की बात कह रहे है.

Source

इन नेताओं में सबसे पहला नाम AIMIM के मुखिया असुद्दीन ओवैसी का नाम आता है जो खुले मंचो के साथ खुली चर्चा में भी भारत की जय और वन्दे मातरम न बोलने की बात कह चुके है. यह बात किसी से छुप नही सकती है कि यह केवल नीच राजनीति का एक नमूना के अलवा और कुछ भी नही है.

Source

मुंबई महानगर पालिका द्वारा उठाये गये इस कदम पर ओवैसी को जरुर एक बड़ा झटका लगा है ओवैसी तिलमिला गये है. आप वीडियो में उनकी तिलमिलाहट देख सकते है. आपकी जानकरी के लिए बता दें कि BMC में शिवसेना का कब्ज़ा है .

शिवसेना सांसद संजय राउत ने बीएमसी के इस फैसले की सराहना करते हुए कहा है कि ये एक बढ़िया कदम है। किसी को भी वंदेमातरम से आपत्ति नहीं होनी चाहिए। राउत ने ये भी कहा कि जिस किसी को भी इससे आपत्ति है उसे देश से बाहर निकल जाना चाहिए। इस पर वारिस पठान ने धमकी देते हुए यह भी कहा है कि यह अगर इसे जबरदस्ती थोपा गया तो इसका अंजाम भुगतना होगा.

इसके जवाब में शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि जिसे भारत माता की जय और वन्दे मातरम नही बोलना है वो देश से बाहर चले जाए.भारत माता और वन्दे मातरम को लेकर पहले भी काफी विवाद हो चूका है.

Facebook Comments