जब पीएम मोदी से मिलने के लिए एक घंटे पहले ही पहुँच गए मुलायम और पीएम के वहां पहुँचते ही बिना कुछ सोचे समझे…

सीएम योगी के शपथ ग्रहण समारोह का वो पल भला कौन ही भूल सकता है जब एक ही मंच पर मौजूद पीएम नरेन्द्र मोदी और मुलायम सिंह यादव एक साथ नज़र आये थे| सिर्फ यहीं नहीं साथ नज़र आने के साथ ही साथ एक मौका ऐसा भी देखने को मिला था जब मुलायम सिंह यादव पीएम मोदी के कान में कुछ फुसफुसाते नज़र आये थे| इस वाकये के बाद कई दिनों तक इस बारे में चर्चा चली कि आखिर मुलायम सिंह यादव ने पीएम मोदी के कान में ऐसा क्या बोला?

source

हालाँकि इस वाकये के कई दिन बाद तक इस बात के चर्चे सोशल मीडिया पर छाए रहे कि आखिर पीएम मोदी के कान में उस दिन मुलायम यादव ने क्या बोला| कभी लोगों ने खुद अपने दिमाग के घोड़े दौड़ा कर ये बात समझने की कोशिश की तो कभी मजाक में इस बात को लिया| हालाँकि उस दिन की सच्चाई तो सिर्फ दो ही शख्स जानते हैं| एक खुद मुलायम यादव और दूसरे पीएम मोदी|

source

खैर इन सब के बाद एक बार फिर ऐसा ही कुछ नज़ारा सीएम योगी की दावत में देखने को मिला| दरअसल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा प्रधानमंत्री के सम्मान में दिए भोज में कभी सपा मुखिया रहे मुलायम सिंह यादव वहां मौजूद सभी नेताओं के सामने ही कुछ ऐसा कर बैठे जिससे सबकी निगाहें उन्ही पर टिक गयीं और आज सोशल मीडिया पर हर तरफ ही उसके चर्चे हो रहे हैं|

दरअसल भोज में कभी सपा मुखिया रहे मुलायम सिंह यादव और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच खासी नजदीकियां देखने को मिलीं। दोनों जहां एक ही टेबल पर बैठे वहीं रह-रहकर दोनों में हो रही गुफ्तगू पर मेहमानों की निगाहें टिकीं रहीं। आपको बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अपने सरकारी आवास पांच कालिदास मार्ग पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सम्मान में मंगलवार को रात्रि भोज का आयोजन किया। लॉन में हुए डिनर में मेहमानों के लिए राउंड टेबल लगाई गईं।

source

पीएम नरेन्द्र मोदी रात 8 बजकर 40 मिनट पर पहुंचे और करीब एक घंटे तक रहे। मुख्य टेबल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उनके बगल में मुलायम सिंह यादव, यूपी के राज्यपाल राम नाईक, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दिलीप बाबा साहेब भोसले बैठे। भोज से पहले पीएम ने हर टेबल पर जाकर लोगों से कुशलक्षेम पूछा और लोगों से मिले।

source

मुलायम सिंह यादव का इस तरह बार-बार पीएम मोदी से अच्छे संबंध बनाने की कोशिश करना यहाँ साफ़ तौर पर दो बातों की तरफ इशारा कर रहा है| पहली ये कि पीएम मोदी की छवि उनके तीन साल के कार्यकाल में एक ऐसे नेता की तरह उभर कर सामने आई हैं जिनकी ताकत के सामने विरोधी भी घुटने टेक देते हैं, या दूसरा ये कि जिस तरह से मुलायम के बेटे अखिलेश कांग्रेस के साथ हाथ मिलाकर आगे बढ़ रहे हैं ऐसे में मुलायम सिंह यादव खुद को कमज़ोर नहीं पड़ने देना चाहते हैं और ऐसे में वो पीएम मोदी से हाथ मिलाकर आगे बढ़ना चाहते हैं|

Facebook Comments