सरकार बनने से पहले ही कांग्रेस ने रखी ऐसी डिमांड जिसके बाद जेडीएस..

जेडीएस और कांग्रेस को मिलकर कर्नाटक में 23 मई को सरकार बनानी है, जेडीएस प्रमुख HD देवगौड़ा के बेटे HD कुमारस्वामी कर्नाटक के सीएम बनने जा रहे हैं. इन सबका दौर चल ही रहा होता है कि सामने एक ऐसी खबर आती है जिसके बाद से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इस नए गठबंधन की उम्र कितनी हो सकती है. दरअसल कांग्रेस और जेडीएस के बीच समझौता ही इसी बात पर हुआ है कि कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बनेंगे और पार्टी अहमियत के हिसाब से मंत्री पद बाटें जायेंगे. इस पद के बंटवारे को लेकर भी बीच में एक खबर आई थी कि जिसमें कहा जा रहा था कि, “78 सीटों वाली कांग्रेस को 13 पद दिए जा रहे हैं वहीं 37 सीटों वाली जेडीएस को 20 पद मिलने के आसार हैं” इस वजह दोनों के बीच मनमुटाव की ख़बरें भी सामने आ रही थीं.

कुमारस्वामी

जेडीएस को कांग्रेस की यह मांग मान्य नहीं

फ़िलहाल इस मनमुटाव की खबर से निपटने के लिए 21 मई को कुमारस्वामी सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली तक गये. हालाँकि ABP न्यूज़ की पोर्टल के मुताबिक, “इस गठबंधन में कांग्रेस चाहती है कि उसके कोटे से कर्नाटक में दो उपमुख्यमंत्री बनाये जाएँ, लेकिन यह डिमांड जेडीएस को मान्य नहीं है.”

कुमारस्वामी से कांग्रेस के बड़े नेता गुलाम नबी आजाद बात करते हुए

जेडीएस तैयार नहीं

कुमारस्वामी 23 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं, लेकिन इसके पहले अभी बहुत कुछ ड्रामा होना बाकी है. कहने को तो कम सीटें आने पर भी जेडीएस और कांग्रेस सरकार बनाने जा रहे हैं लेकिन उनके इस मेल में बेमेल का भाव साफ़ नजर आ रहा है. क्योंकि कांग्रेस चाहती है कि उसके कोटे से दो उपमुख्यमंत्री बनाये जाए लेकिन जेडीएस इस बात के लिए तैयार नजर नहीं आ रही.

सरकार बनने से पहले ही मांगों को लेकर मनमुटाव जारी है, देखना है सरकार कितने दिन तक चलती है

बता दें कि जेडीएस नेता दानिश अली का कहना है कि, “22 मई को बेंगलुरु में कांग्रेस और जेडीएस के नेता एक मीटिंग में सरकार के गठन और सत्ता में किसकी कितनी साझेदारी होगी, इस बात पर चर्चा करेंगे.”

आखिर भाजपा को किसी भी हाल में रोकने के लिए कांग्रेस और जेडीएस एक तो हो गये हैं लेकिन अब देखना यह भी है कि कर्नाटक की गठबंधन वाली सरकार कितने दिन चलती है.

बता दें कि कुमारस्वामी 23 मई को शाम साढ़े चार बजे प्रदेश सचिवालय में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. 

Facebook Comments