भारत और चीन का युद्ध हुआ तो अमेरिका उठाएगा ये बड़ा कदम, चीनी अखबार ने खुद किया खुलासा !

127

इस समय डोकलम में भारत और चीन के बीच गहरी तनातनी चल रही है और कभी भी दोनों के बीच युद्ध हो सकता है.  आपको बता दें दोनों ही देश इस समय एक दुसरे को कांटे की टक्कर दे रहे हैं और इस विवाद को सुलझाने में लगे हैं. चीन लगातार भारत को हमले की धमकी दे रहा है और अपनी सरकारी मीडिया की मदद से झूठी खबरें भी फैला रहा है, भारत ने अजीत डोभाल को चीन भेजकर इस मुद्दे को सुलझाने का  सोचा है.

 

source

अमेरिका करेगा भारत का समर्थन ? .

दरअसल अंतर्राष्ट्रीय राजनीति की गहरी समझ रखने वाले एक विशेषज्ञ ने बताया है कि अगर भारत और चीन के बीच युद्ध होगा तो अमेरिका भारत का साथ देगा. वॉशिंगटन स्थित सेंटर फॉर स्ट्रैटिजिक ऐंड इंटरनैशनल स्टडीज के सीनियर फेलो जैक कूपर ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि अमेरिका, भारत और चीन के बीच चल रहे बॉर्डर विवाद में दखल देने की कोशिश करेगा, लेकिन मुझे यह जरूर लगता है कि चीन और भारत के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा के चलते अमेरिका के साथ भारत के सुरक्षा संबंध और मजबूत होंगे’ ‘चीन अगर भारत के खिलाफ अपने दावों पर कायम रहता है, तो एक तरह से वह चीन-विरोधी गठबंधन के बनने का रास्ता साफ करेगा। ऐसे में मुझे लगता है कि चीन समझदारी दिखाते हुए मौजूदा संकट को खत्म करने की दिशा में काम करेगा और किसी भी हिंसक रास्ते से बचना चाहेगा’

 

source

 

 चीन से तंग हो गया है अमेरिका…

दरअसल चीन की बढ़ती ताकत देख अमेरिका को परेशानी होने लगी है और ऐसे में वो भारत का साथ देना बेहतर समझेगा. चीन ने पिछले कुछ दिनों में समुद्री मसलों में अमेरिका को काफी परेशान किया है और इसी से अमेरिका बौखलाया है. विशेषज्ञ की माने तो अगर भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ तो अमेरिका भारत को खुफिया जानकारी देगा और आधुनिक हथियार भी देगा.

 

source

एक विशेषज्ञ के अनुसार  “अमेरिका निगरानी के लिए हिंद महासागर में एक एयरक्राफ्ट करियर और पनडुब्बियां भेज दे और चीन पर दबाव बनाने की कोशिश करे”  चीन के कुछ सैन्य अधिकारीयों के अनुसार चीन छोटे युद्ध को करना चाहता है ताकि वो एशिया में अपना दबदबा बना सके.

 

source

चीन ने भी माना अमेरिका देगा भारत का साथ …

कुछ दिनों पहले चीनी अख़बार ग्लोबल टाइम्स में यह बात साफ लिखी गयी थी कि भारत और चीन के युद्ध में अमेरिका, भारत का साथ देगा. साथ में ये भी लिखा गया है कि अमेरिका ऐसा सिर्फ और सिर्फ अपने फायदे के लिए करेगा.

 

source

महाभारत काल की युद्ध कला से चीन को पस्त करेगा भारत, ये है भारतीय सेना का मास्टर प्लान ? 

हम सभी ने बचपन से ही महाभारत के बारे में सुना है और उसे टीवी पर देखा भी है, महाभारत में  शकुनि मामा ने दुर्योधन के साथ मिलकर पांडवों और उनकी मां को मरने का प्लान बनाया था. दुर्योधन ने जो प्लान बनाया था उसके अनुसार पांडवों को उनकी मां के साथ लाख के बने एक महल में रहने के लिए कहा गया था और मौका देखकर शकुनि मामा ने उस महल में आग लगा दी. बाहर से दुर्योधन और शकुनि मामा को लगा कि अब पांडव और उनकी मां अंदर जलकर मर जाएंगे.

 

source

पांडवों और उनकी मां ने  महल में मौजूद एक सुरंग का इस्तेमाल किया और वहां से बच निकले, बता दें पुराने जमाने से ही भारत में राजा अपने महलों में सुरंग बनवाते आये हैं जिससे वो आराम से निकल जाते थे. सुरंगों का इस्तेमाल और इनका इतिहास काफी पुराना है और अब भारतीय सेना भी इस तरीके को अपनाने वाली है.

 

दरअसल भारतीय सेना चीन से सटे बॉर्डर पर सुरंग बनाने का काम कर रही है और यह काम केंद्र सरकार की मदद से हो रहा है. खबरों की मानें तो सुरंग अरुणांचल प्रदेश से लेकर चीन बॉर्डर तक बनाई जायेगी. इस सुरंग की लम्बाई लगभग 7 किलोमीटर बताई जा रही है और इस सुरंग को दो लेन वाला बनाया जा रहा है. बताया जा रहा है कि सुंरग 11 हजार फीट की ऊंचाई पर बनाई जा रही है.

source

इस सुरंग को इस हिसाब से बनाया जाये कि सेना के वाहन भी आसानी से इसके आर-पार जा सकें, आपको बता दें अभी तक जो रास्ता सेना इस्तेमाल करती थी दुश्मन उसको आसानी से दूरबीन की मदद से देख सकते हैं. मानसून के बाद इस सड़क को बनाने का काम शुरू हो जाएगा.

 

सेना के पास ‘गोला बारूद की कमी’ को लेकर आई रिपोर्ट के अलावा एक ऐसा सच जो जानना बेहद जरुरी है ! 

डोकलम को लेकर भारत और चीन में विवाद की स्थिति बनी हुई है लेकिन इसी बीच CAG ने सेना के पास गोला बारूद की स्थिति के बारे रिपोर्ट दिखाकर एक तरह से सनसनी मचा दी है. CAG का कहना है कि सेना के पास सिर्फ 10 दिन का ही गोला-बारूद बचा हुआ है और अगर चीन से युद्ध होगा तो सेना महज 10 दिन तक ही मोर्चा ले सकती है. इस रिपोर्ट के बाद हर तरफ इसी के चर्चे होने लगे कि आखिर हम चीन को धमकियाँ भी देते जा रहे हैं और हमारे पास 10 दिन तक का ही बारूद है ! लेकिन आज हम आपको बताते हैं कि भारतीय सेना की स्थिति इतनी भी ख़राब नही है कि हम युद्ध से कमजोर साबित होंगे.

Source

40 फ़ीसदी बारूद तो 10 दिन में ही ख़त्म हो जाएगा

आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नही है कि सेना के पास गोला बारूद की कमी को लेकर कोई रिपोर्ट जारी हुई हो इससे पहले भी जब UPA की सरकार थी तब भी ऐसी रिपोर्ट आई थी लेकिन इस बार रिपोर्ट ऐसे मौके पर आई है जब भारत और चीन के बीच तनाव फैला हुआ है. कैग की इस रिपोर्ट का आधार ‘भारतीय सेना को असलहे की ज़रूरत’ है. नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि ‘अगर इस हालात में युद्ध छिड़ जाए तो भारतीय सेना का 40 फ़ीसदी बारूद तो 10 दिन में ही ख़त्म हो जाएगा.’

Source

रक्षा विशेषज्ञ मारूफ़ रज़ा के अनुसार

रक्षा विशेषज्ञ मारूफ़ रज़ा बताते हैं कि ‘सेना में गोला-बारूद की जरूरत को लेकर वॉर वेस्टेज रिज़र्व के हिसाब से क़रीब 40 साल पहले एक टेबल बनाया गया था. उस ज़माने में जब युद्ध होते थे तो 10-15 दिन नही बल्कि महीने भर या डेढ़ महीने तक चलते थे और जब युद्ध किसी नतीजे तक नही पहुँचता था तो दुनिया के बाकी देश युद्ध कर रहे दोनों पक्षों को युद्ध विराम घोषित करने का दबाव बनाते थे लेकिन आज जो हालात हैं वो एकदम अलग हैं. आज जैसी हालत है उसके हिसाब अगर आज युद्ध होता है तो महज 7 से 10 दिन में ही दुनियाभर के बाकी देश युद्ध को रोकने के लिए दोनों पक्षों पर युद्ध विराम का दबाव बनाने लगेंगे.अभी जिस तरीके के हालात हैं उस हिसाब से मुमकिन है कि भारत की लड़ाई पाकिस्तान और चीन के साथ हो सकती है. ऐसे में दुनिया के शक्तिशाली देश एशिया के दो बड़े देशों भारत और चीन के युद्ध को लेकर काफ़ी चिंतित होंगे और उनकी कोशिश जंग को बंद करने की होगी.भारत, पाकिस्तान और चीन के पास परमाणु हथियार हैं, दुनिया को परमाणु हथियारों का इस्तेमाल की चिंता होगी और लड़ाई को जल्द ख़त्म करने की कवायद होगी. जिस तरीके से दुनिया के कई देशों समर्थन भारत को मिला रहा है उस लिहाज से माना जा रहा है कि भारत इतना भी कमजोर नही है और हर मुकाबले का जवाब देने में सक्षम है.’

भारत चीन विवाद

भारत और चीन के बीच चल रहे टकराव को लेकर आये दिन चीन धमकी दे रहा है. दोनों देशों कि सेना डोकलाम इलाके पर तैनात हैं. चीनी मीडिया आये दिन भारत के खिलाफ जहर उगल रही है. चीनी मीडिया ने कहा कि चीन को भारत के साथ गतिरोध करने के लिए तैयार रहना चाहिए. इसी के साथ चीनी मीडिया भारत को लगातार धमकी दे कह रहा है कि इसी तरह तनाव रहता है तो भारत और चीन के बीच अन्य सीमाओं पर भी संघर्ष छिड सकता है. चीन कह रहा है, भारत डोकलाम को लेकर सपना देखना छोड़ दे यह सिर्फ भारत का सपना है. चीन के अख़बार ने “ग्लोबल टाइम्स ” ने कहा है कि चीन डोकलाम इलाके से सेना हटाने को कभी तैयार नहीं होगी.

Source

गौरतलब है कि रिपोर्ट के अनुसार भारत के पास इतना भी गोला बारूद नहीं है जो 10 दिन तक दुश्मनों का सामना कर सके. एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार CAG ने भारतीय नौसेना को आड़े लेते हुए कहा कि चार पनडुब्बी रोधी वाहक युद्धक पोत के निर्माण में भी असाधारण विलंब बताया है.

Source

क्या था रिपोर्ट में

21 जुलाई को संसद में सौंपी रिपोर्ट के अनुसार सन 2013 में गोला बारूद सप्लाई करने वाली कम्पनी ऑर्डिनेंस को गोला बारूद की कमी की गुणवत्ता को लेकर ध्यान दिलाया था. उसके बाद भी इस मामले में किसी तरह की प्रगति न हुई. जरुरत के हिसाब से कमी कायम रही है. खराब व रिजेक्ट पड़े गोला बारूद हटाने व रिपेयर करने में भी कोई खास काम नहीं किया जा रहा है.

Source

रिपोर्ट के अनुसार गोला बारूद की कमी 

रिपोर्ट के अनुसार गोला बारूद मैनेजमेंट को ऑडिट किया गया था जिसमे बताया गया है कि सेना ऑपरेशन अवधि की जरुरत के अनुसार वॉर वेस्टेज को रिजर्व रखा जाता है.रक्षा मंत्रालय ने रिज़र्व वॉर वेस्टेज को 40 दिन की अवधि को मंजूरी दी थी. सन 1999 में आर्मी ने फिर तय किया था कि रिज़र्व वॉर वेस्टेज को कम से कम 20 दिन की अवधि के साथ रिजर्व होना ही चाहिए. जब जाँच की गयी तो पाया गया कि सिर्फ 20 प्रतिशत गोला बारूद ही 40 दिन के मानक के हिसाब से खरे उतर पाये, बल्कि 55 प्रतिशत गोला बारूद 20 दिन के स्तर से भी कम थे. इस तरह हालत बेहद चिंताजनक हैं.

Source

सन् 2008-2013 के बीच 9 सामग्रियों की खरीदारी के लिए पहचान की गयी थी. रिपोर्ट के अनुसार जब देखा गया तो 2014-2016 के बीच इनमें से केवल 5 सामग्रियों पर ही कम हो सका. कमी को देखते हुए सेना मुख्यालय ने उप प्रमुख के वित्तीय अधिकार बढ़ा दिए हैं.भारत को ज्यादातर आपूर्ति ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड की ओर से की जाती है, लेकिन उत्पादन का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाता है.

Source: इस आर्टिकल के कुछ अंश बीबीसी की एक खबर पर आधारित है

 

 

Loading...
Loading...