क़ाज़ी ‘मदरसों में राष्ट्रगान ना गाने’ को लेकर कर रहा था राजनीति लेकिन मिला ऐसा जवाब कि अक्ल ठिकाने लग गये !

4832

योगी सरकार ने इस बार 15 अगस्त को यूपी के सभी मदरसों में स्वतंत्रता दिवस मनाने को लेकर एक निर्देश जारी किया है कि “इस बार 15 अगस्त को यूपी के सारे मदरसों में मनाये जाने वाले स्वतंत्रता दिवस और राष्ट्रगान की वीडियो रिकॉर्डिंग हो.” इस बयान के बाद मानों आसमान ही गिर गया हो. मुस्लिम समुदाय के ठेकदारों ने आवाज उठाई कि उनकी देशभक्ति पर शक किया जा रहा है. कुछ ने कहा कि मदरसों में पहले से ही 15 अगस्त मनाया जाता रहा है और राष्ट्रगान भी होता आया है लेकिन इस तरह से वीडियो रिकॉर्डिंग करके उनपर शक नही किया जाना चाहिए. एक बार तो लगा कि योगी सरकार का फैसला कहीं उल्टा न पड़ जाये लेकिन अब बरेली के एक क़ाज़ी ने इस फैसले पर ऐसा कुछ कहा है कि जिससे साबित होता है कि योगी सरकार ने वीडियो रिकॉर्डिंग करवाने का फैसला बिलकुल सही किया है.

आपको बता दें कि शहर के काज़ी ने बरेली शहर के मदरसों से कहा है कि “योगी सरकार के इस तुगलकी फरमान को न माने और 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस तो मनाये लेकिन राष्ट्रगान न गायें.” जमात रजा ए मुस्तफा के प्रवक्ता नासिर कुरेशी ने ANI से कहा कि “योगी सरकार का ये फरमान निहयाती तुगलकी फरमान है, राष्ट्रगान गाना या न गाना हमारा निजी मामला है और वैसे भी राष्ट्रगान में कुछ शब्द ऐसे भी हैं जिसपर हमें आपत्ति है और इसलिए हम स्वतंत्रता दिवस बिना राष्ट्रगान गाकर ही मनाएंगे.”

इस खबर को मीडिया के तमाम लोगों ने अपने सोशल अकाउंट पर शेयर किया और लिखा कि योगी सरकार का फैसला पहले तो वाकई जबरदस्ती थोपना लग रहा था लेकिन अब क़ाज़ी के इस बयान के बाद लग रहा है कि योगी सरकार ने बिलकुल ठीक किया है.

न्यूज़ 24 के मशहूर एंकर मानक गुप्ता ने अपने ट्विटर पर लिखा कि “शुक्रिया क़ाज़ी साहब, आपने साबित कर दिया योगी सरकार का आदेश बिलकुल सही है. राष्ट्रगान तो होगा, विडियो तैयार रखना.” मानक गुप्ता के इस ट्वीट पर काफी दिलचस्प जवाब आये और उनकी इस बात का सबने समर्थन भी किया.

एक यूजर प्रदीप सिंह ने लिखा कि मदरसों में राष्ट्रगान गाने का आदेश सुनकर मौलवी का कहना है मियाँ इत्ते कम समय मे हम सीखे कैसे ??

गणेश ने लिखा कि “अब राष्ट्र गान से भी मजहब खतरे में या काजी मौलवी का मुस्लिमो पर मानसिक शासन खतरे में Think with deep breath..”

राघवेन्द्र ने मानक गुप्ता की इस ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा कि “काजी ने साबित कर दिया कि उनको देश के संविधान से कोई लेना देना नहीं है जिस चीज में फायदा होगा उसमें संविधान मानेंगे और नुकसान तो शरिया कानून”

Loading...
Loading...