नोट बनाने में बीफ के इस्तेमाल से मचा बवाल, हिन्दू समेत कई धर्मों ने किया इसका विरोध!

960

भारत में नोटबंदी और बीफ दोनों ऐसे बड़े मुद्दे है जो हमेशा रहरहकर चर्चा में आते ही रहते है. नए नोटों की छपाई और बीफ पर बैन को लेकर देश में तरह तरह की नई चर्चा होती ही रहती है. हम यह भी कह सकते है यह दोनों मुद्दे खूब विवादित भी है. नोटबंदी के बाद छापे गये नये नोट भी खूब चर्चा में रहे है. भारत में बीफ बैन को लेकर मांग हमेशा से की जाती रही है कई प्रदेशों में बीफ बैन भी की जा चुका है लेकिन इसके बावजूद बीफ के नाम बवाल होता ही रहता है. हम आपको आज एक ऐसी खबरे बताने जा रहे है जो वाकई हैरान करने वाली है.

Source

दरअसल ब्रिटेन का बैंक ऑफ़ इंग्लैण्ड नोट बनाने में बीफ का इस्तेमाल कर रहा है. बीफ फैट के बदले पाम ऑयल का इस्तेमाल पर्यावरण से जुड़े खतरे को जन्म देगा. इसका विरोध भी जोर शोर से हो रहा है. कई धर्मो के लोगो ने इसका फैसले का जमकर विरोध किया है. इसमें हिन्दू धर्म के लोगो के साथ साथ शाकाहारी लोग भी शामिल थे. हालाँकि बैंक ऑफ़ इंग्लैंड इस बात को साफ़ किया है कि वह बीफ की सहायता से नोटों को बनाने का काम जारी रखेगा.

Source

रिपोर्ट्स के मुताबिक बैंक ऑफ़ इंग्लैंड से इस मुद्दे पर लोगों से राय मांगी थी जिसमें 80 प्रतिशत लोगो ने इसका विरोध किया है.ब्रिटिस में स्थित मंदिरों में भी ऐसे नोटों के उपयोग पर बैन लगा दिया गया है. जिसके बाद यह मुद्दा अब चर्चा में आ गया है.बैंक के मुताबिक नोट छापने के नये तरीके को अपनाने पर बैंक ऑफ इंग्लैंड को 10 सालों में 16.5 मिलियन पाउंड खर्च करना पड़ेगा।

Source

बैक ने फैसला लिया है कि इस साल 5 पाउंड और 10 पाउंड के नोटों की छपाई जारी राखी जायेगी और इसके साथ ही 2020 जारी होने वाली 20 पाउंड की नोट में बीफ के फैट का इस्तेमाल भी किया जाएगा. जिसके बाद वहां इसक विरोध शुरू हो गया है. बैंक ऑफ इंग्लैंड के इस फैसले पर तकरीबन 3 हजार 554 लोगों ने राय दी इनमें से 88 फीसदी लोग नोट में बीफ फैट के इस्तेमाल के खिलाफ थे, जबकि 48 फीसदी लोग पाम ऑयल इस्तेमाल करने के खिलाफ थे

Source

एक रिपोर्ट के अनुसार जानवरों की चर्बी या फैट से मिश्रित प्लास्टिक का इस्तेमाल डेबिट कार्ड, मोबाइल फ़ोन, क्रेडिट कार्ड ,कॉस्मेटिक्स, साबुन और घरो में इस्तेमाल किये जाने वाले कई बोतल और कार के कई पार्ट्स बनाने में इस्तेमाल किया जाता है. यह प्रतिदिन उपयोग में लायी जाने वाली वस्तुओं को भी बनाने में बीफ का इस्तेमाल होता रहा है और अब नोट को बनाने में बीफ के इस्तेमाल से इसकी चर्चा शुरू हो गयी है.

Source

हिन्दुओ और शाकाहारी लोगो के साथ साथ कई अन्य धर्म के लोगो इस बात का विरोध किया है कि नोट के बनाने में बीफ का इस्तेमाल न किया जाए लेकिन बैंक आप इंग्लैंड ने इस बात को साफ़ करते हुए कहा है कि 2020 में छापे जाने वाले 20 पाउंड के नोट में बीफ का इस्तेमाल किया ही जाएगा. ऐसे में हो सकता है कि विरोध तेज हो और वहा और बवाल मचने की आशंका है.