वीडियो: प्रद्युमन के हत्यारे को सजा दिलाने के लिए इन बच्चो की ‘गवाही’ सुनकर हर कोई सन्न रह गया!

9436

हरियाणा के गुरुग्राम में 7 साल के छात्र प्रद्युमन की हत्या के पूरा देश सदमें में हैं. अभिभावक आखिर किसके भरोसे बच्चों को स्कूल भेजें इस चिंता ने हर माँ बाप की नींद उड़ा दी है. पुलिस के अनुसार प्रद्युमन का हत्यारा बस कंडक्टर ही है जो कि पुलिस हिरासत में है. इसी बीच बच्चे के क्लास में ही पढने वाले दो मासूम बच्चों ने कोर्ट में जाकर अपने दोस्त के कातिल को सजा दिलाने के लिए जज के सामने निर्भीक होकर गवाही दी. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये दोनों बच्चे उसी बाथरूम में गये थे जिसमें प्रद्युमन का क़त्ल किया गया.

Source

प्रद्युमन मर्डर केस के सबसे सच्चे गवाह 

आपको बता दें कि रयान स्कूल में पढने वाले ये दोनों छात्र कराटे सीखते है और रोज की तरह वो सीखने के बाद बाथरूम में कपडे बदलने के लिए गये थे जब वो निकल रहे थे प्रद्युमन अंदर गया और वहां कंडक्टर भी मौजूद था. यही दोनों बच्चे इस केस के सबसे सच्चे गवाह के रूप में सामने आये है. जज ने बच्चों के हौसले की तारीफ की. जज ने यह भी तय किया कि कहीं बच्चों की फुसलाया तो नही गया है. इसके बाद धारा 164 के अंतर्गत बच्चों ने अपनी गवाही दर्ज कराई . जज के साथ पुलिस ने भी इन दोनों बच्चों के हौसले को सलाम किया. 

थोड़ी सी और ताकत लगाता कातिल तो अलग हो जाती गर्दन 

डॉक्टर दीपक माथुर ने बताया कि पोस्टमार्टम जांच के दौरान पता चला कि प्रद्युम्न की मौत ज्यादा खून बह जाने से हुई थी और बच्चे के साथ किसी भी तरह की यौन शोषण से सम्बंधित कोई निशान नही मिले हैं. डॉक्टर ने यह भी कहा कि बच्चे की हत्या में एक व्यक्ति ही शामिल है इसके चांस ज्यादा है. बच्चे के गले पर दो बार वार किया गया जिसमें से पहले वार हल्का था लेकिन दूसरा वार बच्चे की गर्दन के इतने अंदर तक लगा कि कातिल अगर थोड़ी सी और ताकत लगा देता तो गर्दन अलग जो जाती. बच्चे ने ज्यादा से ज्यादा 1 मिनट में ही दम तोड़ दिया था.

Source

नही हुआ था यौन शोषण 

दरअसल पुलिस की जांच भी सवालों के घेरे में है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुलिस का कहना है कि कंडक्टर ने बच्चे के साथ यौन शोषण करने की कोशिश की नाकाम रहने पर उसने बच्चे की चाक़ू से गर्दन काटकर हत्या कर दी. जबकि डॉक्टर का कहना है कि बच्चे के साथ किसी तरह के यौन शोषण के निशान नही मिले हैं.

घटना के वक्त मौजूद बस ड्राईवर ने बातचीत करते हुए कहा कि घटना के बाद कंडक्टर वहीँ मौजूद था और उसने ही प्रद्युमन को बाथरूम से उठाकार अस्पताल ले जाने के लिए कार तक पहुँचाया था. जिससे उसका पूरा कपड़ा खून से भीग गया था. अपने बच्चे की फीस भरने आये एक अभिभावक ने भी यही बात कही है. अब सवाल यह है कि अगर कंडक्टर ही हत्यारा है तो उसने हत्या करने के बाद भागने की कोशिश क्यों नही की? बच्चे की हत्या करने के बाद कंडक्टर ने बच्चे को अस्पताल पहुंचाने में मदद क्यों की?

 

 

Loading...
Loading...