सातवीं पास माँ और तीन बार दसवीं फेल पिता का बेटा जब बना IPS अफसर तो करने लगा ये काम जिसकी किसी को नहीं थी उम्मीद!

2578

इंसान अगर दिल से चाहे तो वो अपनी ज़िन्दगी में हर मुकाम हासिल कर सकता है और इसका उधारण हैं ये शख्स जिनके बारे में आज हम आपको बताने वाले हैं. इस शख्स की मेहनत और लगन ने उसे फर्श से अर्श तक पहुँचाया है. महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव में एक किसान परिवार में जन्मे IPS अफसर शिवदीप लांडे की कहानी काफी दिलचस्प है. शिवदीप लांडे 2006 बैच के बिहार कैडर के IPS अफसर हैं.

शिवदीप लांडे अपने परिवार में सबसे बड़े बेटे हैं. उनकी परवरिश काफी तकलीफों में हुई है. कहा जाता है कि शिवदीप की माता जी केवल सातवीं तक पढ़ी थीं और वहीँ उनके पिता तीन बार दसवी में फेल. तीन बार निराशा हांसिल करने के बाद और परिवार की आर्थिक और शैक्षणिक स्थिति को बेहद खराब देखते हुए शिवदीप लांडे के पिता ने अपनी पढ़ाई छोड़कर खेती किसानी करना शुरू कर दिया था.

वहीँ शिवदीप के परिवार के पास पैसे तो नहीं थे लेकिन शिवदीप के अन्दर कुछ कर गुजरने का जज़्बा था जिसकी वजह से उन्हें स्कॉलरशिप मिलती थी उसी की मदद से शिववदीप लांडे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में ही रहकर UPSC की तैयारी की थी. शिववदीप लांडे ने भारतीय राजस्व विभाग में भी नौकरी की हुई थी लेकिन इसी बीच उनका UPSC में चयन हो गया उसी दिन से शिववदीप लांडे और उनके परिवार की ज़िन्दगी बदल गयी.

शिवदीप लांडे की पहली पोस्टिंग मुंगेर जिले के नक्सल प्रभवित जमालपुर में हुई थी. इतना ही नहीं बल्कि बिहार की राजधानी पटना के बतौर एसपी के तौर पर अपने अच्छे कार्यों की वजह से उनका नाम पूरे देश में मशहूर हो गया. शिवदीप लांडे अपने काम को लेकर काफी कड़क किस्म के अफसर थे इसलिए वो कई अपराधियों की आंखों में खटकने लगे थे जिसकी वजह से उनका कई बार ट्रांसफर भी हुआ. शिवदीप लांडे इस वक्त महाराष्ट्र में ही पोस्टेड हैं और यहाँ उन्हें मई 2015 में तीन सालों के लिए केंद्र सरकार द्वारा भेजा गया था.

वैसे आपको बता दें कि शिवदीप लांडे अपनी नौकरी में जितना सख्त नजर आते हैं, उतना ही वे अपने निजी जीवन में काफी विनम्र किस्म के व्यक्ति हैं. वे हमेशा से गरीबों की मदद करते हैं शादी से पहले तो अपनी कमाई का 60 प्रतिशत एनजीओ में दान कर देते थे. लेकिन अब जैसा कि उनके ज़िन्दगी में कई जिम्मेदारियां बढ़ गयी हैं, अब उनके जीवन में पत्नी और उनकी एक प्यारी सी बेटी भी है जिसकी वजह से वो अब इतना तो मदद नहीं कर पाते लेकिन फिर भी 30 प्रतिशत ले लगभग तो कर ही देते हैं. शिवदीप लांडे ने तो कई लड़कियों की सामूहिक शादी करवाकर उनके घर बस्वाए हैं.

शिवदीप लांडे के निजी ज़िन्दगी की अगर बात करें तो उनकी मंत्री कोई आम लड़की नहीं हैं बल्कि वे महाराष्ट्र के मंत्री विजय शिवतारे की बेटी ममता हैं. शिवदीप और ममता की लव मैरिज है और उनकी पहली मुलाक़ात एक दोस्त के घर पर हो रही पार्टी में हुई थी. यही मुलाकात आगे चलकर प्यार में बदल गई और 2 फरवरी 2014 को दोनों ने शादी भी कर ली.