पीएम मोदी ने जापानी पीएम को कहा “शुक्रिया” तो जवाब में शिंजो आबे ने कहा, “जापान में कोई रेल हादसा नहीं होता लेकिन…”

6032

देश में बुलेट ट्रेन की नींव रखी जा चुकी है. 13 सितम्बर को जापानी पीएम शिंजो आबे अपनी पत्नी के साथ आये ही भारत को तोहफ़ा देने थे. पीएम मोदी के साथ मिलकर शिंजो आबे ने आखिरकार देश को वो तोहफ़ा दे भी दिया जिसका हर भारतवासी टकटकी लगाये इंतज़ार कर रहा था. मिली ख़बरों के अनुसार 14 सितम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने अहमदाबाद में देश के पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है.

बताया जा रहा है कि यह प्रोजेक्ट करीब 1 लाख करोड़ रुपए का है. जानकारी के लिए बता दें कि बुलेट ट्रेन का यह प्रोजेक्ट अहमदाबाद से मुंबई तक का है. सरकार की ओर से आत्मविश्वास के साथ कहा गया है कि इस प्रोजेक्ट को निर्धारित समय से एक साल पहले यानी 2023 के बजाय 2022 में ही पूरा करे जाने की बात की जा रही है. ऐसे में बुलेट ट्रेन के शिलान्यास के मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि, “आजादी के 70 साल बाद इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन हुआ है, जब 2022 में आजादी के 75 साल पूरे होंगे तब मैं और शिंजो आबे बुलेट ट्रेन में एक साथ बैठेंगे.”

जिसके जवाब में शिंजो आबे ने कहा कि…

बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना ये भाषण गुजराती भाषा में शुरू किया. पीएम मोदी ने कहा कि मेरे करीबी मित्र शिंजो आबे का बहुत-बहुत धन्यवाद. पीएम मोदी ने कहा कि सपनों का विस्तार ही किसी भी देश को आगे बढ़ाता है, ये न्यू इंडिया है. जिसके जवाब में शिंजो आबे ने कहा कि, “भारत और जापान की दोस्ती सिर्फ द्विपक्षीय नहीं है, यह विश्व व्यवस्था की है. जापान पूरी तरह से मेक इन इंडिया का समर्थन करता है.” आगे बोलते हुए शिंजो आबे ने कहा कि, “मैं और पीएम मोदी जय इंडिया, जय जापान का सपना साकार करेंगे. साथ ही मुझे पूरी उम्मीद है अगली बार जब भारत आऊंगा तो बुलेट ट्रेन में बैठूंगा.” शिंजो आबे ने आगे कहा कि, “पीएम मोदी एक दूरदर्शी नेता हैं, मैंने खुद इस प्रोजेक्ट में रुचि ली है. जापान से 100 से अधिक इंजीनियर भारत में आए हुए हैं, मोदी की नीतियों का पूरा समर्थन करता हूं.” यही नहीं शिंजो आबे ने ये तक कहा कि जापान में बुलेट ट्रेन से कोई हादसा नहीं होता है ऐसे ही पीएम मोदी के प्रयास से एक दिन पूरे भारत में बुलेट ट्रेन दौड़ेगी.