पति हैं जापान के प्रधानमंत्री फिर भी उनकी पत्नी कर चुकी हैं ये काम जानेंगे तो नहीं होगा यकीन !

1655

देश में बुलेट ट्रेन की नींव रखी जा चुकी है. 13 सितम्बर को जापानी पीएम शिंजो आबे अपनी पत्नी के साथ आये ही भारत को तोहफ़ा देने थे. पीएम मोदी के साथ मिलकर शिंजो आबे ने आखिरकार देश को वो तोहफ़ा दे भी दिया जिसका हर भारतवासी टकटकी लगाये इंतज़ार कर रहा था. मिली ख़बरों के अनुसार 14 सितम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने अहमदाबाद में देश के पहली बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का शिलान्यास कर दिया है.

शिंजो आबे भारत अपनी पत्नी अकई आबे के साथ आये हैं और उनकी पत्नी भी 13 सितम्बर को पीएम मोदी और पीएम आबे के साथ रोड शो में मौजूद थीं. अकई आबे के बारे में जितना अच्छा बोलें उतना कम है क्योंकि वे बेहद ही खुशनुमा व्यक्तित्व वाली महिला हैं. कहा जाता है कि अकई आबे ज्यादातर जनहित से जुड़े कामों में हमेशा सक्रिय दिखती हैं और हमेशा ऐसे कामों में अपनी भागीदारी निभाती हैं.


माना जाता है कि अकई आबे सेक्शुअल माइनॉरिटीज और एजीबीटी समुदाय को सपोर्ट करने के लिए काफी जानी जाती हैं. साल 2011 में अकई आबे ने रिक्कयो यूनिवर्सिटी से सोशल डिजाइन स्टडीज में मास्टर की डिग्री प्राप्त की थी. अकई आबे किसी आम घराने की नहीं है बल्कि उनका जन्म जापान की नामचीन कंपनी मोरिनगा एंड कंपनी के प्रेसिडेंट के घर में हुआ था. 

अकई आबे ने अपनी पढ़ाई जापान से ही कि और ग्रेजुएशन भी उन्होंने एसएचपीटी कॉलेज से पूरा किया था. अकई आबे और प्रधानमंत्री शिंजो आबे की शादी 1987 में हुई थी. माना जाता है कि उन दोनों का कोई भी बच्चा नहीं है. प्रधानमंत्री शिंजो आबे से शादी करने के बाद साल 1990 में अकई आबे ने अपने पति के होमटाउन Shimonoseki में बतौर एक रेडियो जॉकी भी काम किया है. बतौर रेडियो जॉकी, अकई का नाम अक्की (Akky) था और वे ब्रॉडकास्ट जगत में काफी लोकप्रिय भी थीं.