सरदार सरोवर बाँध के उद्घाटन में पीएम मोदी ने कहा कि ‘अगर अंबेडकर जिन्दा होते तो…’

1144

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने जन्मदिन के मौके पर गुजरात में बने दुनिया के दूसरे सबसे बड़े बाँध का उद्घाटन किया. इस बाँध को बनाने में लगभग 50 से ज्यादा साल का वक़्त लगा. इस बाँध को बनाने के लिए नींव सरदार बल्लभ भाई पटेल ने रखी थी. जन्मदिन के मौके पर पीएम मोदी हमेशा की तरह अपनी माँ से मिलने भी पहुंचे थे. बाँध का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी वहा पर मौजूद लोगों को संबोधित भी किया. अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने अंबेडकर और सरदार पटेल का जिक्र करते हुआ कई बातें कही.

Source

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने कहा कि ‘न जानें डाभोई से कितनी यादें जुड़ी हैं लेकिन इससे पहले इतना विशाल जनसागर यहाँ देखने की नही  मिला.’ इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘अगर दो महापुरुष कुछ साल और जीवित रहते तो यह सरदार सरोवर 60-70 के दशक में बनकर तैयार हो जात. एक सरदार जिन्होंने  इसकी कल्पना की थी और  दूसरे अंबेडकर जिन्होंने अपने जलक्रांति के लिए मंत्रीपरिषद में के अपने अल्पकाल में ही कई योजना शुरू की थी’.

Source

आगे बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर बाबा साहब अंबेडकर और सरदार पटेल कुछ साल और जीवित होते तो तो सूखा और बाढ़ की समस्या आज इतनी बड़ी नहीं होती.मैं इन दोनों महापुरुषों को याद करते हुए सरदार सरोवर बाँध  को देशवासियों को समर्पित करता हूं. सरदार पटेल की आत्मा जहाँ कही भी होगी इस बाँध को देखकर हमपर आशीर्वाद बरसा रही होगी.हम में से कई लोगों के जन्म से पहले ही सरदार पटेल ने इस बाँध का सपना देखा था.

पीएम मोदी ने कहा कि सरदार सरोवर बाँध में दुनिया की कई ताकतों ने रुकावटें पैदा की. पर्यावरण को नुकसान पहुँचने के नाम पर होने वाले विरोध के बाद विश्व बैंक ने हमें पैसे देने से मना कर दिया लेकिन हमने भी ठान लिया था कि भारतीयों के पसीने से इस बाँध को बनाकर ही रहेंगे जिसमें हमें सफलता भी मिली है. पश्चिमी राज्यों को छोड़कर देखें तो देश के अधिकतर राज्यों में पानी की समस्या के चलते विकाश में अवरोध उत्पन्न हुआ है. लोग पानी की तलाश में एक जगह से दूसरी जगह जा रहे हैं.

Loading...
Loading...