राहुल गाँधी के इस बयान को जानकर आपका खून खौल सकता है, बीजेपी ने किया वार !

64

कांग्रेस के युवराज कहे जाने वाले राहुल गांधी हमेशा अपने बयानों से चर्चा का विषय बने रहते हैं. राहुल गाँधी के कई ऐसे बयान हैं जो कभी उनका मजाक उड़ाते हैं तो कभी उन्हें विवादों में रखते हैं. आलू की फैक्ट्री और आलू से सोना बनाने की बात करने वाले राहुल गाँधी का वीडियो तो आपने जरूर देखा होगा, लेकिन आज हम राहुल गाँधी को लेकर एक ऐसी खबर बता रहे हैं जो उन्हें मुश्किलों में फंसा सकती है. दरअसल ‘भगवा आतंकवाद’ कहकर कांग्रेस काफी पहले से फंसी हुई है और उसकी चर्चा आज भी हो ही जाती है लेकिन अब राहुल गाँधी ने आतंकवाद को हिन्दुओं से जोड़ दिया है.

Source

NBT की खबर के मुताबिक गुजरात चुनाव से पहले राहुल गाँधी कुछ ऐसे फंसते नजर आ रहे है कि जिसका फायदा गुजरात चुनाव में बीजेपी को मिलने के आसार हैं. दरअसल बीजेपी की तरफ से केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल गाँधी से उस बयान पर सफाई मांगी है जिसमें उन्होंने ‘हिन्दू आतंकवाद’ जैसे शब्द का इस्तेमाल करके उसे लश्कर-ए-तैयबा से भी खतरनाक बताया है. आपको बता दें कि हिन्दुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने का काम राहुल गाँधी ने पहली बार नही किया है. इससे पहले भी मुस्लिम वोटों की लालच में उन्होंने कई ऐसे बयान दिए हैं जो उनकी मानसिकता को दर्शाता है. बता दें कि अमेरिका के एक पुराने डिप्लोमैटिक केबल में राहुल गाँधी का एक बयान जारी हुआ था जिसमें उन्होंने ‘हिन्दू आतंकवाद’ को लश्कर-ए-तैयबा से भी खतरनाक बताया था. यह बयान उन्होंने तब दिया था जब 2010 में अमेरिकी विदेश मंत्री हिलरी क्लिंटन भारत के दौरे पर थीं.

Source

इसपर केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि “मुंबई हमलों के 2 साल बाद ही अमेरिकी विदेश मंत्री हिलरी क्लिंटन भारत दौरे पर थीं और उस वक्त के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा दिए गये भोज में अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर राहुल गांधी के पास बैठे थे और उन्होंने कांग्रेस नेता से पूछा कि ‘वह लश्कर-ए-तैयबा के बारे में क्या सोचते हैं?’, जिसपर राहुल गाँधी ने कहा कि “लश्कर-ए-तैयबा को भूल जाइये उससे भी ज्यादा खतरनाक हिन्दू आतंकवाद है. इस बात को लंदन के अखबार द गॉर्डियन ने छापा भी था.”  गुजरात मंदिरों का दौरा करने वाले राहुल गाँधी से केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि “हम राहुल गांधी से इसे लेकर स्पष्टीकरण की मांग करते हैं. उन्हें खुद पर शर्म आनी चाहिए कि वह सोचते हैं कि लश्कर-ए-तैयबा हिंदू भगवा आतंक से कम खतरनाक है.”

Loading...
Loading...