लोकसभा में तीन तलाक बिल का विरोध कर रहे थे ओवैसी लेकिन M J अकबर ने दिया ऐसा जवाब कि..

28 दिसंबर को जब तीन तलाक के खिलाफ बिल पर लोकसभा में चर्चा हो रही थी तो AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने इस बिल को इस्लाम के खिलाफ बताया. उन्होंने कहा कि ‘इस कानून को बनाने के लिए सरकार को पहले इस्लाम के जानकारों की सलाह लेनी थी, जिस तरह से ये कानून बनाया जा रहा है इससे हमारे पर्सनल लॉ बोर्ड को खत्म करने की कोशिश की जा रही है.’ यहीं नहीं इस बिल को देखते हुए आवाज ये भी उठी कि इस्लाम खतरे में है, लेकिन इन सारी बातों का जवाब देते हुए मोदी सरकार में केन्द्रीय मंत्री एम जे अकबर ने लोकसभा में अपनी बात रखते हुए इस बिल का विरोध करने वालों की धज्जियां उड़ा दी.

Source

दरअसल इस बिल के विरोध में ओवैसी ने इस कानून को इस्लाम के खिलाफ बताया और कहा कि ये कानून भारतीय मुस्लिमों के हक़ में नहीं है. इसके बाद सरकार की तरफ से केन्द्रीय मंत्री एम जे अकबर ने मोर्चा संभाला और ऐसे तर्क दिए कि ओवैसी वहां सिर्फ मूकदर्शक बने रहे.

 

Source

दैनिक जागरण के मुताबिक केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि “यह विधेयक फायदेमंद है उन नौ करोड़ मुस्लिम महिलाओं के लिए जो हर समय तलाक दे दिए जाने के डर में जी रही हैं.” उन्होंने आगे कहा कि “इस बिल से उन लोगों को झटका लगेगा जो तलाक के जरिये महिलाओं को हमेशा दहशत और आतंक के साए में रखना चाहते हैं.” कुरान की आयतों को पढ़ते हुए एम जे अकबर ने कहा कि “हमारा जो धर्मग्रन्थ है, कुरान, वो भी यही कहता है कि महिलाओं को उनके हक़ से ज्यादा मिलना चाहिए.”

Source

इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार की जमकर तारीफ की, और कहा कि “जो काम नेहरु की सरकार में नही हो पाया वो अब मोदी सरकार कर रही है. मुस्लिम पर्सनल लॉ में सुधार का यही उपयुक्त समय है.” सदन में बोलते हुए उनका एक भाषण केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया. जिसमें एम जे अकबर ने इस बिल का विरोध करने वाले लोगों को जमकर धोया है.

वीडियो