हरियाणा सरकार के घूंघट विवाद पर दंगल गर्ल ने कहा कुछ ऐसा कि सरकार को देनी पड़ी…

इस बार हरियाणा सरकार ने कुछ ऐसा कर दिया है जिससे सरकार दंगल गर्ल के निशाने पर आ गई है | हरियाणा सरकार ने अपनी मैग्जीन पर कुछ ऐसा छाप दिया जिस पर दंगल गर्ल ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए करारा जवाब दिया है | इसी के साथ साथ सरकार पर कांग्रेस ने भी निशाना साधा है | विपक्ष की पार्टियों का कहना है कि यह सरकार की पिछड़ी सोच को दिखता है | गीता फोगाट ने कहा कि वे ऐसे प्रदेश से आती हैं जहाँ महिलाओं को स्कूल जाने तक की इजाजत नहीं होती है लेकिन हमारे पिता ने समाज के इन बन्धनों को तोड़ते हुए हमें घर से बाहर निकाला और यहां तक पहुंचाया |

Source

गीता फोगाट ने कहा आज का समय ऐसा नहीं है कि महिलायें पर्दे में रहे |आज के समय में लड़कियाँ अपना हक़ हासिल करना जानती है और अगर हक़ न मिले तो वे लड़ाई लड़कर भी अपना हक़ ले सकने की ताकत रखती हैं | इसी के साथ गीता फोगाट ने कहा कि आज दुनिया बहुत आगे निकल चुकी है | ऐसे में इस तरह का विज्ञापन हमारे पिता और हमारी मेहनत पर पानी फेरता है | सरकार को इस तरह के विज्ञापनों से बचना चाहिए |

Source

हरियाणा सरकार की मासिक पत्रिका में  छपी तस्वीर के साथ लगे कैप्शन में ‘घूंघट’ को ‘राज्य की पहचान’बताया गया है |जिससे एक विवाद पैदा हो गया है। इसी को लेकर विपक्ष ने भी सरकार की तीखी आलोचना की है | हालांकि सरकार के वरिष्ठ मंत्री अनिल विज ने विपक्ष के इस आरोप को खारिज करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने महिला सशक्तीकरण के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए है |और सरकार इस बात का समर्थन नहीं कर रही है कि महिलाओं को घूंघट रखने के लिए विवश किया जाना चाहिए।

Source

हरियाणा सरकार की कृषि संवाद पत्रिका के हालिया अंक में एक घूंघट वाली महिला की तस्वीर छपी है। इस तस्वीर में महिला अपने सिर पर चारा लेकर जा रही है और कैप्शन में लिखा है, घूंघट की आन-बन, म्हारे हरियाणा की पहचान। यह पत्रिका राज्य सरकर की मासिक पत्रिक हरियाणा संवाद की एक परिशिष्ट है। इस पत्रिका के मुख्य पृष्ठ पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की तस्वीर छपी है। ये विज्ञापन सरकार के लिए मुसीबत बन गया है |

 

Facebook Comments