ये जानते हुए कि पीएम नरेंद्र मोदी शुद्ध शाकाहारी हैं, पुर्तगाली दौरे के दौरान उनके साथ लंच पर जो हुआ…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इनदिनों विदेश यात्रा पर हैं| तीन देशों की इस यात्रा का पीएम मोदी का पहला पड़ाव था पुर्तगाल| ऐसे में जब शनिवार को पीएम मोदी पुर्तगाल पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन पहुंचे पहुंचे तो उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया| बताते चलें कि यहाँ पीएम मोदी भारत और पुर्तगाल के द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए अपने पुर्तगाली समकक्ष एंटोनियो कोस्टा से मिले। एंटोनियो  कोस्टा गोवा (भारत) मूल के ही हैं। लिस्बन में प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “भारतीय अपने साथ अपनी सांस्कृतिक विरासत लेकर आए और उन्हें उसका हमेशा ही गर्व रहता है|” प्रधानमंत्री ने अपनी इसी स्पीच में भारत में भाषा की विविधता बताते  हुए कहा कि भारतीय जहां भी रहते हैं स्वयं को उसकी संस्कृति के अनुकूल बना लेते हैं|

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कुछ तस्वीरों के साथ ट्वीट किया, ओला (हलो) पुर्तगाल। पीएम नरेंद्र मोदी जब लिस्बन पहुंचे तो प्रोटोकोल से परे जाकर विदेश मंत्री ऑगस्टो सैंटोस सिल्वा ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। इस दौरे में सब कुछ उसी ढंग से चल रहा था जैसा सोचा और निर्धारित किया गया था| मिलने और एक दूसरे से बातचीत करने के बाद वक़्त आया साथ में खाना खाने का| यहाँ हमे ये बताने की ज़रूरत तो नहीं है कि पीएम मोदी शुद्ध शाकाहारी हैं|  याद हो तो नवरात्र के व्रत के दौरान भी उन्होंने विदेश दौरा किया था जहाँ उन्होंने मात्र पानी पी कर अपना व्रत पूरा किया था| ऐसे में जब वो लिस्बन में लंच करने पहुंचे तो टेबल पर मौजूद खाने की चीज़ें देखकर शायद उनको भी एक पल को यकीन ना हुआ हो|

source

प्रधानमंत्री मोदी और पुर्तगाली समकक्ष एंटोनियो कोस्टा का लंच का कार्यक्रम रखा गया था, लेकिन यहाँ हैरान करने वाली बात ये थी कि पुर्तगाली पीएम ने  पीएम मोदी के लिए भारतीय खाना या यूँ कहिये  खासतौर पर गुजराती थाली बनवाई थी। भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने वो व्यंजन ट्वीट किए जो पुर्तगाली पीएम एंटोनियो कोस्टा ने पीएम मोदी के लिए बनवाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए लंच में साग कोफ्ता, राजमा और मकाई, तड़का दाल, केसर राइस, पराठा, रोटी, पापड़, मैंगो श्रीखंड, गुलाब-जामुन समेत कई तरह के व्यंजन बनाए गए थे|

source

भारत के साथ पुर्तगाल के ऐतिहासिक संबंधों के बारे में जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि, “पुर्तगाल का भारत के साथ ऐतिहासिक संबंध है, लेकिन गुजरात के साथ उसका संबंध ज्यादा ख़ास है| इसके बाद उन्होंने वहां मौजूद लोगों को कच्छ के नाविक कांजी मालम की कहानी सुनाई,जिन्होंने  1497 में पुर्तगाली नाविक वास्को डि गामा को यूरोप से भारत तक के समुद्री मार्ग का पता लगाने में मदद की थी|

Facebook Comments