देखिये चीनी सेना ने अपनी ही मीडिया का क्या हाल किया!

डोकलाम को लेकर भारत और चीन के बीच तनाव बना हुआ है. ज्यादातर तनाव की ख़बरें चीनी मीडिया से मिलती रहती हैं. चीनी मीडिया ने हमेशा भारत और चीन के रिश्तों में खटास होने की ख़बरों को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया है. अभी हाल ही में चीनी मीडिया ने कहा था कि चीनी सेना भारतीय सेना को डोकलाम से हटाने के लिए इस क्षेत्र में बहुत जल्द कोई ठोस कदम उठा सकती हैं. जिसके बाद तनाव और बढ़ गया. चीनी मीडिया का कहना था कि ‘चीनी सैनिक छोटे स्तर पर डोकलाम में भारतीय सेना के खिलाफ एक ऑपरेशन को अंजाम दे सकते हैं.’ आपको बता दें कि चीनी मीडिया की इन बातों को उन्हीं की सेना ने बकवास बताया है और उसे आईना भी दिखाया है.

Source

चीनी मीडिया द्वारा दिए जा रहे ऐसे बयानों पर चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि ‘चीन की ऐसी कोई योजना नहीं है, यह चीनी मीडिया की अपनी खुद की राय हो सकती है और ऐसी कार्रवाही की बातों का वो खंडन करते हैं.’ वैसे चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल रन कोचियांग ने तो कार्रवाही की खबरों का खंडन किया है लेकिन चीन की सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि ‘डोकलाम को लेकर बने गतिरोध को ख़त्म करने के लिए चीन जल्द ही कोई ठोस कदम उठा सकता है.’

Source

इतना ही नही चीन ने भारतीय विदेश मंत्रालय को आगाह करते हुए कहा था कि ‘बहुत जल्द ही भारतीय सेना की टुकड़ी को खदेड़ने के लिए दो सप्ताह के भीतर एक ऑपरेशन को अंजाम दे सकता है.’

Source

वैसे जहां तक चीन सरकार की बात है तो उसने युद्ध की संभावनाओ को ख़ारिज कर दिया है लेकिन चीनी मीडिया आये दिन तनाव की ख़बरों को बढ़ाचढ़ाकर दिखाने की कोशिश कर रहा है. कई विशेषज्ञों का ये भी मानना है कि भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों की सेना के बीच तनातनी ख़बरों को उकसाने में चीनी मीडिया एक अहम रोल प्ले कर रहा है.

Source

चीनी मुक्केबाज को हराकर विजेंदर सिंह ने कहा कुछ ऐसा कि जीत लिया दिल

2008 में हुए पेइचिंग ओलिम्पिक में कांस्य पदक जीतने वाले भारतीय मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने 5 अगस्त को चीन के मुक्केबाज जुल्पिकार माईमाईतियाली को कठिन मुकाबले में जबरदस्त मात दे दी. आपको बता दें कि यह मैच 10 राउंड तक चला. जहां एक तरफ भारत और चीन डोकलाम को लेकर आमने सामने हैं और वहीं इस विवाद के बीच चीनी मुक्केबाज की हार की खबर भारतवासियों के लिए एक सुखद अनुभूति जैसी है.

इस जीत के साथ विजेंदर सिंह ने अपना WBO एशिया पैसिफिक सुपर मीडिलवेट खिताब बचा लिया और इतना ही नही इसके साथ ही उन्होंने अपने विपक्षी का डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल सुपर मीडिल वेट खिताब भी हासिल कर लिया. यह ऐसा खिताबी मुकाबला था, जिसमें जीतने वाले खिलाड़ी को जीत का ख़िताब तो मिलता ही लेकिन साथ ही दूसरे का खिताब जीतने का हकदार माना जाता.

वीडियो

यह खिताब जीतने के बाद विजेंदर सिंह ने जो कहा उसे सुनकर सभी भारतीय गौरवान्वित महसूस करेंगे. उन्होंने कहा कि “मैं इस टाइटल जीतकर ये नही दिखाना चाहता कि हम चीन को मात दे रहे हैं बल्कि मुझे ये टाइटल नहीं चाहिए, मैं इसे जुल्पीकर को लौटाना चाहता हूं और इस जीत को भारत-चीन की दोस्ती के नाम करता हूँ. सीमा पर तनाव जारी है और ऐसे में हमें शांति चाहिए.” आपको बता दें कि विजेंदर ने अपनी लंबाई का अच्छा फायदा उठाया और चीनी मुक्केबाज को कुछ अच्छे पंच जड़े.

Facebook Comments