इस आत्महत्या के बाद कांग्रेस के बड़े नेताओं के नाम आ गए सामने, राहुल गाँधी नें साध ली है चुप्पी..

कायदे से भारत की राजनीति में आज भूचाल होना चाहिए। अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत कलिखो पुल के 60 पन्नों के सुसाइड नोट में कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं के नाम हैं। उन्होंने कई मशहूर वकीलों और जजों के नाम भी लिखे हैं, जिनकी ओर से उनसे संपर्क किया गया था और फैसला बदलने के बदले में मोटी रकम मांगी गई थी। उन्होंने दिन, तारीख और समय के साथ पूरा ब्यौरा लिखा है। 60 पन्नों का नोट हिंदी में लिखा गया है और टाइप किए गए हर पन्ने पर पुल ने बाकायदा दस्तखत किए हैं। इसलिए इसे बनाया हुआ फर्जी दस्तावेज भी करार नहीं दिया जा सकता है।

पूरा मामला :

आपको बता दें कि कांग्रेस से बगावत करके कलिखो पुल ने बीजेपी की मदद से अरुणाचल प्रदेश में सरकार बनाई थी। कांग्रेस के नेतृत्व कलिखो असंतुष्ट थे जिसकी वजह से कलिखो ने कांग्रेस पार्टी से बगावत करने की ठान ली| कलिखो के लिए ऐसा करना आसान नहीं था पर उस वक़्त कांग्रेस पार्टी के ही 19 बागी विधायक भी उनके साथ बगावत में शामिल हो गए थे। जिसके बाद सरकार गठित करने के लिए उन्हें बीजेपी के 11 और 2 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन मिल गया था। कलिखो पुल की इस जीत के बाद कांग्रेस का आरोप था कि कलिखो के सहारे बीजेपी अरुणाचल प्रदेश पर काबिज होना चाहती है।

कांग्रेस सरकार कलिखो की इस बगावत और उनकी जीत से बेहद निराश थी| जिसके बाद कांग्रेस नें कलिखो के नेतृत्व में गठित सरकार को अवैध ठहरा दिया था। जिसके खिलाफ में कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट भी पहुंची थी। पर उस वक्त कांग्रेस को सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली थी। पर थोड़े ही महीनों बाद जुलाई में अदालत की ओर से कांग्रेस को हरी झंडी मिल गयी थी जिसके बाद कलिखो पुल को हटा कर नबाम तुकी को दोबारा मुख्यमंत्री का पद मिल गया था।

इसी वक़्त राज्य विधानसभा में कांग्रेस को अपना विश्वास मत हासिल करना था, जिसे हासिल करने के बाद आखिरी समय में कांग्रेस ने राजनैतिक दांव खेलते हुए नबाम तुकी को हटाकर पेमा खांडू को मुख्यमंत्री बना दिया। इस फैसले से कलिखो पुल को भी काफी बड़ा धक्का पहुंचा था।

Source

पुल द्वारा लिखे गये इस सुसाइड नोट में कुछ ऐसा लिखा हुआ है जो कई लोगों को बेनकाब कर देगा| यह सुसाइड नोट भ्रष्टाचार के खिलाफ एक व्यक्ति का निजी चार्जशीट है| देश में हो रहे इसी भ्रष्टाचार नें पूर्व मुख्यमंत्री को आत्महत्या करने के लिए विवश किया था| इस नोट में कांग्रेस पार्टी के कई बड़े नेताओं के अलावा भी प्रदेश के कई सरकारी अधिकारीयों का कच्चा चिटठा लिखा हुआ है| इस मामले के लिए सीबीआई जांच का आदेश दिया गया है|

भ्रष्ट्राचार का ऐसा दौर आ गया है कि अगर कोई बेगुनाह है और उसके पास पैसे नहीं हैं तो यूं समझ लीजिये की वो हारा हुआ है| जब एक राज्य के मुख्यमंत्री को भ्रष्टाचार के चलते आत्महत्या करनी पड़ गयी, तो आप अंदाज़ा लगा सकते है की आने वाले समय में तो आम जनता तो ऐसे ही हारी हुई दिखेगी, कोर्ट तक तो जाने की कोई उम्मीद ही नहीं बनती|

इस वीडियो में जानें उन लोगों के नाम जिनका जिक्र कलिखो पुल ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है l जिसे सुनते ही आपको कांग्रेस की सच्चाई पता चल जाएगी l

देखें वीडियो :

 

Facebook Comments