गले की फांस बन चुका चारा घोटाला से बचने के लिए लालू ने अपनाया राजनीति का हथकंडा जिस पर जज ने चलाया अपना डंडा

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद को कौन नहीं जनता है | राजनीति में लालू का एक अलग औहदा है | लालू प्रसाद यादव कांग्रेस राज में रेल मंत्री थे | लालू यादव ने अपने काल में भारतीय रेलवे को घाटे से बाहर निकलकर फायदें में पहुँचाया है  | लालू ने अपने समय में देश को रेल द्वारा अनेकों तोहफें दिए है | गरीब रथ लालू की ऐसी देने है जिसका फयदा सबसे ज्यादा आम आदमी को हुआ हैं | लालू प्रसाद यादव 1990-1997 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे है | लालू के देशी अंदाज़ को देखकर आम जनता उन्हें अनपढ़ व्यक्ति समझ लेती हैं जबकि हकीकत में लालू ने बी.ए. और एलएलबी की है |

SOURCE

लालू यादव ने देश में अपना नाम राजनीति से हासिल किया हैं | आज के समय में राजनीति करना इतना आसन नहीं हैं जितना उसे समझा जाता है | लालू ने राजनीति के अलवा कॉमेडी ,फिल्म  में भी हाथ आजमा रखे हैं | लालू ने देश मे घोटाला करनें में भी  अपना नाम दर्ज करवा रखा हैं |

SOURCE

लालू यादव ने देश में चारा घोटाला कर देश की जनता को असमंजस  स्थिति में डाल दिया था | देश की जनता को यकीन नहीं हो रहा था की देश में चारा से भी इतना बड़ा घोटाला किया जा सकता हैं | 950 करोड़ रूपए सरकारी खजाने से निकाले गए थे |जिसके चक्कर में लालू को मुख्यमंत्री पद से हाथ धोना पड़ा था |

SOURCE

चारे घोटाले के चक्कर में लालू यादव आजकल रोजना न्यायलय जाकर जज के सामने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाते है | इसके साथ साथ देश कि राजनीति जगत में सबसे ज्यादा हलचल मची हुई हैं इसका मुख्य कारण देश में राष्ट्रपति चुनाव है |  देश में ज्यादतर दल अपनी पसंद का राष्ट्रपति चुनने की होड़ में लगी हुई हैं |

SOURCE

रोजना जज के सामने उपस्थिति दर्ज करने से छुटकारा पाने के लिए लालू ने जज से हाथ जोड़कर निवेदन किया की मैं राजनीति आदमी हूँ तो मुझे थोड़ी मौहलत दी जाए | लालू ने जज से हाथ जोड़कर अपील कि रोज राज आने से परेशानी होती है। छूट दीजिए। पॉलिटिकल आदमी हैं। सामने राष्ट्रपति का चुनाव हैं, मुझे रैली भी करनी है।

SOURCE

लालू की बात सुनकर जज शिवपाल सिंह ने कहा, इंटरनेट का जमाना है आपको कुछ नहीं, कार्यकर्ताओं को सबकुछ करना है। हम जानबूझकर नहीं बुला रहे। 9 माह के भीतर मामले को निष्पादित करना है, इसलिए सुनवाई के दौरान शामिल होना होगा |न्यायलय से राहत  मिलने के कारण बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव सीबीआई के विशेष न्यायाधीश की अदालत में सशरीर उपस्थित नहीं हुए। न्यायालय में अधिवक्ता के माध्यम से उनकी हाजरी लगाई जा रही है |

Facebook Comments