मस्जिद के अंदर बच्चियों के साथ ये 81 वर्षीय इमाम करता था शर्मनाक काम, पकड़ा गया तो बताया कि…

धर्म के नाम पर महिलाओं के साथ अश्लील हरकतें करने वाले ढोंगियों की कमी किसी भी धर्म में नहीं है. जहां अभी तक हिंदू धर्म में अनेकों बाबाओं पर महिलाओं के शारीरिक शोषण का आरोप लगा है तो वहीं मुस्लिम धर्म में भी इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं, जिन्हे देखने के बाद समझ ही नहीं आता कि आज के वक़्त में भरोसा करे भी तो किस पर और कैसे? ऐसा ही एक वाकया हाल ही में ब्रिटेन से सामने आया है जहाँ एक इमाम मस्जिद जैसी पाक जगह पर बच्चियों को बुलाकर उनके साथ गलत काम करता था. 81 वर्षीय इस इमाम की इस करतूत के बारे में जब लोगों को भनक लगी तो लोगों ने..

source

कुरान पढ़ाने के नाम पर करता था बच्चियों का शोषण 

81 वर्षीय मुहम्मद हाजी सिद्दीकी पर आरोप था कि उन्होंने लगभग 4 लड़कियों को आपत्तिजनक तरीके से छुआ था और दुखद बात ये है कि उन पर लगा ये आरोप अब सिद्ध भी हो चुका है. इस आरोप में मुहम्मद सिद्दीकी के बारे में कहा गया है कि वो लड़कियों को अपने पास बैठाता था और उनसे कुरान पढ़ने को कहता था और इसी दौरान वो इन मासूम बच्चियों को गलत तरीके से छूता था. हैरत की बात ये है कि मुहम्मद ये काम पूरी क्लास के बच्चों के सामने करता था.

पाकिस्तानी मूल का है ये इमाम 

मिली जानकारी के अनुसार ये दरिंदा इमाम पाकिस्तान मूल का है. मुहम्मद के काले-कारनामों के बारे में भनक लगते ही मुहम्मद को उनके किये की सजा दे दी गयी है. एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून के अनुसार, 30 सालों से अधिक समय से कार्डिफ स्‍थित मदीना मस्‍जिद के इमाम के तौर पर कार्यरत सादिक कुरान कक्षाओं के लिए अपने पास बैठने के लिए छात्रों को मजबूर करता और फिर उनका शोषण करता था.

source

मिली 13 साल की सजा 

मासूम बच्चियों के साथ गलत काम करने वाले इस मुहम्मद की खबर जैसे ही साउथ वेल्‍स के अधिकारीयों को मिली उन्होंने तुरंत ही इस मामले को कोर्ट में पहुँचाया जहाँ जज स्‍टीफन हापकिंस ने मामले की पूरी पड़ताल के बाद सादिक को गुनहगार मानते हुए उसे 13 साल के कैद की सजा दी है।

source

इन आरोपों पर सादिक ने क्या कहा

बताते चलें कि बच्चियों की ज़िन्दगी से खिलवाड़ करने वाले मुहम्मद सादिक पर 14 आपराधिक मामले दर्ज़ किये गए हैं. इन मामलों में से 6 मामले बच्चियों से अभद्र व्यवहार करने से जुड़े हैं और 8 मामले यौन उत्पीड़न से जुड़े हैं. हैरत की बात है कि ये सभी मामले 1996 से 2006 के बीच घटित हुए थे जो कि अब सामने आ रहे हैं.   इन मामलों के बारे में मुहम्मद सादिक ने कहा कि, “ये सब झूठ है और उनके खिलाफ महज़ एक घिनौनी साज़िश है. इस करतूत से अपना पल्ला झाड़ते हुए मुहम्मद ने आगे कहा कि मुझपर ये बेबुनियाद आरोप मस्जिद के बाकी सदस्यों ने एक साज़िश के तहत लगाये हैं.

source

मासूम बच्चियों को पीटता भी था इमाम

मुहम्मद सादिक पर लगे इन संगीन आरोपों में एक आरोप ये भी निकल कर सामने आया है कि वो जब भी बच्चियों को कुरान पढ़ाने आता था उसके पास हमेशा ही अपने साथ एक लोहे की और एक लकड़ी की छड़ी रखता था. बताया जा रहा है कि जैसे ही इन बच्चियों से कुरान पढ़ने में ज़रा भी गलती हो जाती थी मुहम्मद तुरंत ही उनपर वो छड़ी उठा देता था.

source

जज ने क्या कहा…

इस मामले की सुनवाई कर रहे जज ने सिद्दीकी को उसके गुनाहों की सजा सुनाते हुए कहा कि, “जिन बच्चियों ने सामने आकर सिद्दीकी की करतूत से पर्दा हटाया है उनकी हिम्मत की हम मिसाल देते हैं. इस तरह के मामलों में अमूमन तौर पर देखा जाता है कि लोग डर जाते हैं या समाज के संकोच से इन मामलों पर चुप्पी बनाये रखते हैं लेकिन ऐसे में इन सब बातों से ऊपर उठ कर इन बच्चियों ने जो कदम उठाया है वो सराहनीय है.

 

Facebook Comments