विपक्ष ने जिस मीरा कुमार को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है उनका ये सच जान लेंगे तो आपके होश उड़ जाएंगे !

राष्ट्रपति चुनाव का उम्मीदवार बनने की रेस और बढती ही जा रही है, जैसे-जैसे चुनाव की तारीख और नजदीक आ रही है वैसे-वैसे सभी राजनीतिक पार्टियों में हडकंप मचाना शुरू हो गया है . अभी तक राष्ट्रपति बनने की दोड़ में रामनाथ कोविंद का नाम बहुत आ रहा था जिसकी छवि को साफ सुथरा बताया जा रहा है लेकिन विपक्ष ने उनकी छवि को खराब करने के लिए उनकी विरोधी मीरा कुमार को कांग्रेस की तरफ से आनन फानन में उमीदवार घोषित कर दिया, विपक्ष ने इस कदम से पहले मीरा कुमार के बारे में जाँच करना भी उचित नहीं समझा.

source

क्या है राष्ट्रपति की अहमियत…

राष्ट्रपति बनने के लिए सिर्फ किसी पार्टी से अच्छे संबंध हो काफी नहीं है उसकी ईमानदारी और बेदाग़ छवि होनी चाहिए बहुत आवश्यक है क्योंकि वह किसी भी राजनीतिक पार्टी से मिला हुआ नहीं होता है और उसके द्वारा ही कानूनों को देश में लागू किया जाता है. देश के विकास के लिए एक ईमानदार व्यक्ति की जरूरत होती है न कि कोई भी अपनी पार्टी के स्वार्थ हेतू चुनाव में खड़ा हो जाए, लेकिन हालहि में मीरा कुमार को लेकर ऐसे बड़े खुलासे हुए है जिसके बारे में सुनकर आपके भी होश उड़ जायेंगे.

source

मीरा कुमार को लेकर हुआ सबसे बड़ा खुलासा…

इस बड़े खुलासे के बाद सियासी गलियारों में हलचल मच गयी है, मीरा कुमार के बारे में बताया जा रहा है कि नई दिल्ली के लुटियंस जोंस में कृष्ण मेनन मार्ग पर उन्होंने दो सरकारी बंगलों पर अवैध रूप से ना सिर्फ कब्जा जमाया हुआ है बल्कि दोनों बंगलों को आपस में जोड़कर एक बंगला बना लिया है, लेकिन तीन साल पहले लोकसभा चुनाव हारने के बाद उनको ये बंगला छोड़ देना चाहिए था.

source

क्या कहता है कानून…

जानकारी के लिए आपको बता दे कि किसी भी देश का राष्ट्रपति हो या प्रधानमंत्री या सरकार से जुड़ा हुआ कोई भी नेता उसको सरकारी जमीन को क्षतिग्रस्त करने का कोई भी अधिकार नहीं है, फिर भी कोई इस तरह की हरकत करते है तो वह कानून का उलंघन करते है और उनके ऊपर क़ानूनी कार्यवाही की जाती है लेकिन मीरा कुमार ने बंगला छोड़ने की बजाय दो बंगलो पर कब्ज़ा करने के बाद दोनों को मिलाकर एक आलिशान महल बना लिया. क्या हम इस तरह के भ्रष्ट नेताओ के हाथो में अपने देश की कमान दे सकते है ?

source

 

2014 में जब मोदी सरकार बनी थी तो उसने भी मीरा कुमार को बार बार नोटिस भेजा था कि वह सरकारी बंगले को खाली कर दे लेकिन जबाब में उन्होंने कहा कि 25 साल के लिए मैंने दोनों बंगले बुक कर लिए है और वह उनको छोडकर कहीं भी नहीं जाने वाली है उन आलिशान बंगलो का किराया इतना बढ़ गया है कि उनके बसकी चुका पाना लगभग न मुमकिन है लेकिन फिर भी वह बंगला छोड़ने के लिए तेयार नही हो रही है और न ही किराया दे रही है.

Facebook Comments