संसद के मिडनाइट सेशन की वो कहानी जिसको पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु ने किया था शुरु अब पीएम मोदी भी इस वजह से कर रहे है.

गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (GST) आज रात से देशभर में लागू होने जा रहा है. इसके लिए मोदी सरकार ने अपनी तरफ से पूरी तैयारी कर ली है. शुक्रवार 30 जून को आधी रात को पार्लियामेंट का ज्वाइंट सेशन बुलाया गया है. 70 साल में ऐसा पहली बार हो रहा है जब किसी टैक्स रिफॉर्म को लागू करने के लिए संसद आधी रात को चलेगी. बहुत कम लोग जानते है कि भारत के इतिहास में ये चौथा मौका होगा जब पार्लियामेंट के सेंट्रल हॉल में मिडनाइट सेशन लगेगा.

आपको बता दें कि इससे पहले भी आजादी के जश्न के लिए आधी रात को संसद बुलाई गई थी. सन्न 1947 में 14 अगस्त को रात 12 बजे देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का वो भाषण जो दिल्ली के संसद भवन में गूंजा, जिसको सुनने के लिए पूरा देश सांसे थामे जवाहर लाल नेहरु की बातें रेडियो पर सुन रहे थे.

पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु के वो शब्द जिसमें उन्होंने लोगों को इत्तला किया था की वर्षों से चल रहे उसके संघर्ष को विराम मिल गया है और देश ब्रिटिश राज से आजाद हो गया है. ऐसा ही मंजर एक बार फिर संसद भवन का साक्षी बनेगा. 70 साल बाद पहली बार एक बार फिर संसद भवन मिडनाइट सेशन का साक्षी बनेगा.

30 जून को पीएम मोदी संसद के सेंट्रल हॉल में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में आधी रात को देश को संबोधित कर अब तक के सबसे बड़े कर सुधार ‘जीएसटी’ का आगाज़ करेंगे. ये आगाज होगा देश की नई व्यवस्था के लिए होगा जिससे देश को भी एक नई दिशा भी मिलेगी. इस पल का इंतज़ार देश के लोग बेसब्री से कर रहे है.

कांग्रेस पार्टी इसको अपनी तरफ से रोकने की पूरी कोशिश कर रही हैं. वो नहीं चाहते की मोदी सरकार आधी रात को संसद भवन से  जीएसटी का आगाज कर पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु की सूचि में शामिल हो जाएगी. कांग्रेस पार्टी इससे बिलकुल भी खुश नहीं है और वो इसको रोकने के लिए अपनी तरफ से हर कोशिश कर रही है.

 

Facebook Comments