केन्द्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी की बहन पर जारी हुआ फतवा लेकिन जो जवाब मिला उसे सुनकर मौलवी..

मुस्लिम महिलाओं को आज़ादी और उनके अधिकार दिलाने के लिए मोदी सरकार पुरजोर से लगी हुई है. जहां तीन तलाक को लेकर सरकार को बड़ी जीत मिली है और इसे अब गैर-क़ानूनी माना जायेगा तो वहीं बाकी के ‘निकाह हलाला और बहुविवाह’ पर भी नियम-कानून बनाने की कोशिश हो रही है. बता दें कि मोदी सरकार द्वारा उठाये जा रहे इन क़दमों को लेकर मुस्लिम समुदाय के बुद्धजीवी और महिलाएं काफी उत्साहित हैं.

बरेली की दरगाह आला हजरत (Bareilly.ORG)

केन्द्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी की बहन पर फतवा

सरकार के अलावा कुछ संगठन ऐसे भी हैं जो मुस्लिम महिलाओं के लिए आवाज उठाते रहते हैं, लेकिन उनकी भी आवाज को खामोश करने के लिए कुछ मौलाना-मौलवी ऐसे भी हैं जो फतवा देने पर तुले रहते हैं. एक ऐसा ही संगठन जो केन्द्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी की बहन फरहत नकवी द्वारा चलाया जाता है, उसको लेकर यूपी में बरेली के एक मौलाना ने फतवा जारी कर दिया है.

मौलवी ने फतवा जारी करते हुए कहा…

बता दें कि यह फतवा फरहत नकवी पर ही नहीं बल्कि आला हजरत परिवार से संबंध रखने वाली निदा खान पर भी जारी हुआ है. जनसत्ता के मुताबिक बरेली के एक मुफ़्ती खुर्शीद आलम ने शुक्रवार को फरहत नकवी और निदा खान पर फतवा जारी करते हुए कहा था कि, ‘इन दोनों महिलाओं को इस्लाम से बेदखल कर दिया जायेगा.’

फरहत नकवी (फोटो सोर्स: जनसत्ता)

मौलवी को निदा खान और फरहत नकवी ने दिया करारा जवाब

मौलवी द्वारा जारी हुए फतवे पर फरहत नकवी ने कहा कि, “मैं इन फालतू की धमकियों से डरने वाली नहीं हूँ. मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ दिलाने के लिए आगे भी लड़ती रहूंगी. वहीं निदा खान ने इस धमकी पर कहा कि, “ये सारे मौलवी तब कहां रहते हैं जब मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक और हलाला से पीड़ित होकर न्याय के लिए ठोकरे खाती हैं?”

फरहत नकवी मुस्लिम महिलाओं के लिए हमेशा आवाज उठाती रहती हैं (फोटो सोर्स: मुस्लिम पत्रिका)

निदा खान और फरहत नकवी

हालांकि जिस तरीके से फतवा जारी करने वाले मौलवी को हिम्मत के साथ जवाब मिला है उसे सुनकर मौलाना के होश ठिकाने लग गये होंगे. वहीं अगर निदा खान और फरहत नकवी के बारे में बात करें तो दोनों अपना अलग-अलग संगठन चलाती हैं, जिसमें तीन तलाक, हलाला से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने का काम किया जाता है. इन संगठनों द्वारा किये जा रहे काम को इस्लाम के ठेकेदार पचा नहीं पा रहे और फतवा जारी करके अपनी भड़ास निकाल रहे हैं.

Facebook Comments