खुद दो शादी करने वाले मुलायम ने औरतों के बारे में जो कहा उसे सुनकर सदन में बैठे लोगों ने उसी वक्त…

समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और लोकसभा के सदस्य मुलायम सिंह यादव राजनीति के बड़े खिलाडी है. मुलायम सिह उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पिता है. अखिलेश-मुलायम और शिवपाल यादव के बीच विवाद ने तो इन लोगों की अच्छे से पहचान करा ही दी थी. फिलहाल इस समय भी अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी के मुखिया है. अखिलेश यादव सत्ता से बाहर होने के बाद तो जैसे कहीं गायब से हो गये है. पर शिवपाल यादव अभी भी अखिलेश के विपक्ष में बोलते नजर आते है. जैसा कि आप जानते है कि यादव परिवार का विवादों से पुराना नाता है.

Source

मुलायम सिंह यादव लोकसभा में बोल रहे थे. इसी दौरान मुलायम सिंह से सांसदों से एक सवाल पूछा जिसे सुनकर सब हैरत में पड़ गये. लोकसभा में भीड़ द्वारा गोरक्षा के नाम पर लोगो की पीट पीट कर हत्या किये जाने पर चर्चा हो रही थी इसीपर  मुलायम सिंह बोल रहे थे. मुलायम सिंह ने सभी सांसदों से पूछा कि आपमें से कितने लोग अपनी पत्नियों को दबा कर रखते है,हाथ उठाइए. इतना सुनते ही सब हैरत में पड़ गये. यादव जी ने अपील भी की कि कोई भी अपनी पत्नी पर अत्याचार न करें. मुलायम सिंह महिलाओं की छूट की बात कर रहे थे.

Source

मुलायम सिह ने बहस की शुरुवात करते हुए कहा कि महिलाओं पर अत्याचार और उत्पीड़न की शुरुवात परिवार से ही होती है. महिलाओं को दबाया जाता है पत्नियों पर अत्याचार किया जाता है यह बंद होना चाहिए उन्होंने कहा कि समाज में समानता कायम करने के लिए पहले अपने घर में समानता कायम करना होगा. इसके बाद ही हम कुछ बदल सकते है.इसके लिए पत्नियों पर अत्याचार न करने की शपथ ली जानी चाहिए. अगर महिलाओं पर अत्याचार बंद करने की बात करना है तो पहले खुद को सुधारों.

Source

मुलायम सिंह यादव ने सदन में नियम 193 के तहत देश में हत्या और भीड़ द्वारा जान से मारने की कथित घटनाओं से पैदा हुई स्थिति पर चर्चा हो रही थी.मुलायम सिंह यादव ने इसके बाद जो कहा उसे सुनकर सदन में बैठे सभी लोग हैरत में पद गये.उन्होंने कहा- आपमें से कौन कौन से सांसद अपनी पत्नियों को दबा कर नही रखते है.हाथ उठाइये. किसी भी सांसद के हाथ न खड़ा करने पर मुलायम सिंह ने कहा कि देख लीजिये संसद के लोगो का क्या हाल है.इस पर बीजेपी के केवल एक सदस्य ने हाथ खड़ा किया था जिसपर नेता जी ने कहा कि अच्छी बात है आप अपनी पत्नी को दबा कर नही रखते है. इस बात पर सदन में ठहाके गूंज उठे.

Source

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के पूर्व मुखिया ने कहा कि समाज में धर्म जाति, भाषा, क्षेत्रवाद के नाम पर भेदभाव और हिंसा होती है. और जहाँ तक पुरुष और महिला की बात है तो समाज में सबसे ज्यादा अत्याचार महिलाओं पर ही होता है. उन्होंने कहा कि समाज में हिंसा कि शुरुवात परिवार से ही होती है इसे रोका जाना चाहिए. लोकसभा में चर्चा के दौरान मुलायम सिंह ने सब बातें कहीं.

Source

अब सोचने वाली बात यह है कि एक तरफ अखिलेश सत्ता में रहते हुए महिलाओं के सम्मान में काफी काम करने की बात करते थे. अगर उनसे पूछा जाए तो वो कई काम गिना भी सकते है जो उन्होंने महिलाओं के लिए उठाये है. लेकिन सोचने वाली बात तो यह है मुलायम सिंह यादव ने दो शादियाँ की हैं और उन्होंने पहले ही इस बात को क्यों नही उठाया. उनसे यह सवाल किया जाना चाहिए. हालाँकि वो राजनीति क्र बादशाह है वो अच्छी तरह जानते है हमने कब कौन सा पाला खेलना है.

Facebook Comments