विपक्ष के लागातार बन रहे दबाव के बीच नवाज़ शरीफ़ ने खोल दिया 1998 का एक राज जिसे सुनकर…

पाकिस्तान के बुरे हालात के बारे में सारी दुनिया जानती है. पाकिस्तान ने आजादी के बाद से ही दूसरे देशों के सामने हाथ फैलाना शुरू कर दिया था यही वजह रही कि वो कभी भी अपने पैरों पर खड़ा नहीं हो पाया. कभी अमेरिका ने उसकी मदद की तो कभी चीन उसकी जरूरतों को पूरा करता रहा. दरअसल पाकिस्तान को कमज़ोर किया उसके हुक्मरानों ने जिन्होंने दूसरे मुल्कों पर निर्भरता रखी और अपने मुल्क में कुछ ऐसा काम नहीं किया जिससे मुल्क का भला होता. पाकिस्तान ने आजादी के बाद अमेरिका को कहा कि वो एशिया में पकड़ बनाने के लिए उसका उपयोग कर सकता है पहले तो अमेरिका ने ये बात नहीं मानी लेकिन बाद में रूस से निपटने के लिए अमेरिका ने पाकिस्तान का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया.SHRIF

source

अमेरिका के राष्ट्रपति ने दिया था नवाज़ को ऑफ़र 

अमेरिका ने पाकिस्तान को न्युक्लियर टेस्ट न करने के एवज में भी ऑफ़र दिया था. उस समय पाकिस्तान में नवाज़ शरीफ़ की सरकार थी और अमेरिका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन थे. बिल क्लिंटन जानते थे कि अगर पाकिस्तान न्युक्लियर टेस्ट करता है तो इसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं.1998 में हुए इस वाकये को लेकर अब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने अपनी बात कही है. ये बयान तब आया है जब पाकिस्तान में विपक्ष नवाज़ शरीफ़ को इस्तीफ़ा देने को कह रहा है.

source

नवाज़ ने ठुकरा दिया था ऑफ़र 

कुछ समय पहले पनामागेट मामले में नवाज़ शरीफ का नाम आया था और वो बुरी तरह से फंस गए थे. इसके बाद उनके खिलाफ बातें होने लगी. इसी के चलते बुधवार को अपना पक्ष रखते हुए नवाज़ शरीफ ने कहा कि, अगर उन्हें पाकिस्तान की चिंता नहीं होती तो वो अमेरिका का ऑफर मंजूर कर लेते. नवाज़ शरीफ़ उस ऑफर की बात कर रहे थे जो 1998 में अमेरिका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने उनको दिया था न्युक्लियर टेस्ट न करने के लिए. दरअसल बिल क्लिंटन ने नवाज़ को 5 अरब डॉलर (लगभग 32 करोड़ रुपये) का ऑफर दिया था.

source

भारत ने 1998 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में पोखरण (राजस्थान) में न्युक्लियर टेस्ट किया गया था. इसके तुरंत बाद पाकिस्तान ने भी न्यूक्लियर टेस्ट करके दुनिया को चौंका दिया था. उस वक्त पाकिस्तान में नवाज़ शरीफ की ही सरकार थी और उन्होंने ही पाकिस्तान के हित में ये कदम उठाया था.

source

पाकिस्तानी मीडिया में आई खबरों के हवाले से पता चला है कि, पीएम नवाज़ शरीफ़ ने अपोजिशन के लीडर पर निशाना साधते हुए कहा कि, इन लोगों का मुख्य उद्देश्य है किसी भी तरह से नवाज़ शरीफ को पद से हटा देना और फिर अपना रास्ता बनाना. वो ये काम जनमत से नहीं कर सकते और इसीलिए वो अब दूसरा रास्ता अपना रहे हैं. ये सारी बातें नवाज़ शरीफ ने सियालकोट चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक प्रोग्राम के दौरान बोलते हुए सबके सामने रखीं.

source

कुछ समय पहले नवाज़ शरीफ का नाम पनामागेट में आया था और उसके बाद से मनी लॉन्ड्रिंग का केस उनपर चल रहा है. उनका ये बयान तब आया है जब JIT ने उनपर प्रॉपर्टी का ब्योरा छिपाने के आरोप  लगाए हैं. आपको बता दें कि विपक्ष लगातार नवाज़ शरीफ़ से इस्तीफ़ा देने की बात कह रहा है. इसके जवाब में नवाज़ का कहना है कि जो विरोधी उनको आज दोषी ठहराने की कोशिश कर रहे हैं कल उनकी भी बारी आएगी और उनको भी इसी तरह दोषी ठहराया जाएगा.

Facebook Comments